कलियुग में ये चार लोग आज भी भुगत रहे हैं क्रोधित माता सीता के श्राप

कलियुग में ये चार लोग आज भी भुगत रहे हैं क्रोधित माता सीता के श्राप

पितरों की आत्मा की शांति के लिए पिंडदान करना बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है। श्राद्ध में ब्राह्मणों को मृत्यु के बाद आत्मा की शांति के लिए भोजन कराया जाता है। क्योंकि ऐसी मान्यता है कि श्राद्ध में हमारे पूर्वज ब्रह्म के रूप में भोजन करने आते हैं और इससे उनकी आत्मा तृप्त हो जाती है।

भगवान श्रीराम और उनके भाई लक्ष्मण और सीता माता के साथ वनवास जाने के बारे में तो हम सभी जानते हैं। इससे अयोध्यावासियों को बहुत दुख हुआ। राजा दशरथ राम और लक्ष्मण के नुकसान को सहन नहीं कर सके और उनकी मृत्यु हो गई। पिता की मृत्यु की खबर से श्रीराम और लक्ष्मण को गहरा दुख हुआ।

दोनों ने जंगल में दान दिया। इसके लिए राम और लक्ष्मण दोनों जंगल में आवश्यक सामग्री इकट्ठा करने के इरादे से निकल पड़े। इसी दिशा में पिंडदान का समय बीत रहा था। समय के महत्व को समझते हुए, माता सीता ने उस समय अपनी उपस्थिति के बिना अपने ससुर दशरथ को राम और लक्ष्मण को दान कर दिया। उन्होंने इस काम के गवाह के रूप में पंडित (ब्राह्मण), गाय, कौआ और फल्गु नदी को देखा।

माता सीता ने पूरे अनुष्ठान का पालन कर इसे पूरा किया। कुछ समय बाद जब राम और लक्ष्मण लौटे तो उन्होंने माता सीता को सारी कहानी सुनाई और यह भी कहा कि पंडित (ब्राह्मण), गाय, कौआ और फाल्गु नदी उस समय मौजूद थे। गवाह के तौर पर आप इन चारों से तथ्यात्मक जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

जब श्रीराम ने चारों से इसकी पुष्टि करने को कहा तो चारों ने झूठ बोला और कहा कि ऐसा कुछ नहीं हुआ था। इससे दोनों भाई माता सीता से नाराज हो गए। राम और लक्ष्मण को लगा कि सीताजी झूठ बोल रही हैं। तो उन चारों की बातें सुनकर माता सीता बहुत क्रोधित हो गईं और उन्हें झूठ बोलने की सजा देने के लिए उन्हें आजीवन शाप दिया। पूरे पंडित ने समाज को श्राप दिया कि पंडित को जो चाहिए वो मिलेगा लेकिन उनकी गरीबी हमेशा बनी रहेगी।

कौवे को श्राप दिया गया था कि अकेले खाने से उसका पेट कभी नहीं भरेगा और वह अकस्मात मर जाएगा। इसके अलावा, यह फाल्गु नदी के लिए एक अभिशाप था कि अगर पानी गिरता है, तो भी नदी हमेशा सूखी रहेगी और नदी के ऊपर पानी कभी नहीं बहेगा।

जब गाय को श्राप दिया गया था कि भले ही हर घर में इसकी पूजा की जाती है, लेकिन गाय को इसे हमेशा खाना पड़ेगा। इस कथा का उल्लेख रामायण में मिलता है। इन चारों के जीवन पर आज आप माता सीता के श्राप का प्रभाव देख सकते हैं। ये सब बातें आज भी सच होती दिख रही हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *