भारतीय परंपराओं को विदेशी भी मानते हैं, विज्ञान भी झुकता है इन भारतीय परंपराओं के आगे

भारतीय परंपराओं को विदेशी भी मानते हैं, विज्ञान भी झुकता है इन भारतीय परंपराओं के आगे

भारत की अलग-अलग संस्कृति और सभ्यता से हर देश भारत और हिंदू धर्म के महत्व को समझता है।वास्तव में हिंदू धर्म में प्राचीन परंपराएं और संस्कार हैं जो सदियों से चले आ रहे हैं, जैसे कि बड़ों को नमन करना और उनकी संथा में सिंदूर पहने महिलाओं से शादी करना।

आज के आधुनिक युग में भी इसका पालन किया जा रहा है।विज्ञान भी हिंदू धर्म की परंपराओं को नमन करता है।दरअसल इसके पीछे काफी वैज्ञानिक आधार है।तो आइए समझते हैं हिंदू धर्म की परंपराओं का वैज्ञानिक अर्थ।
पैर छूने के लिएकेबड़ों

हिंदू धर्म में आज भी हर छोटे बच्चे को सिखाया जाता है कि बड़ों का आशीर्वाद पाने के लिए उनके पैर छूना चाहिए।विज्ञान में भी यह माना जाता है कि पैर छूने से मस्तिष्क से निकलने वाली सकारात्मक ऊर्जा दूसरे व्यक्ति के हाथ-पैर से ही पूरी हो जाती है।

यह नकारात्मकता को दूर करता है, अहंकार को दूर करता है और मनोवैज्ञानिक रूप से प्रेम समर्पण की भावना को जागृत करता है।जो हमारे व्यक्तित्व को भी प्रभावित करता है।
सिर पर तिलक लगाना

हिंदुओं में, पूजा के दौरान या किसी शुभ कार्य के अवसर पर सिर पर तिलक लगाया जाता है।तथ्य यह है कि हमारे सिर के केंद्र में एक “अजनचक्र” होता है।यह स्थान पीनियल ग्रंथि के अंतर्गत आता है।जब इस क्षेत्र पर तिलक लगाया जाता है, तो पीनियल ग्रंथि उत्तेजित होती है, जो शरीर के सूक्ष्म और स्थूल घटकों को जागृत करती है।

खोपड़ी पर तिलक लगाने से बीटा-एंडोर्फिन और सेरोटोनिन नामक रसायनों के स्राव को भी संतुलित किया जाता है।यह मस्तिष्क को शांत करता है, एकाग्रता बढ़ाता है, क्रोध और तनाव को कम करता है और सकारात्मक सोच विकसित करता है।
हाथ जोड़कर नमस्कार करें

आज भी लोग एक-दूसरे को सम्मान से बधाई देते हैं।कोरोना के समय में इसका महत्व पूरी दुनिया समझ चुकी है।लेकिन भारत ऐसा कई सदियों से करता आ रहा है।दरअसल नमस्ते करने का एक वैज्ञानिक कारण भी है।विज्ञान कहता है कि जब हम अभिवादन के लिए हाथ मिलाते हैं तो हमारी उंगलियां एक दूसरे को छूती हैं।

इस दौरान एक्यूप्रेशर का हमारी आंखों, कानों और मस्तिष्क पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है और किसी भी तरह के संक्रमण का खतरा नहीं होता है।एक विदेशी परंपरा यह भी है कि लोग मिलने पर हाथ मिलाते हैं, जिसमें एक-दूसरे का हाथ छूने से बैक्टीरिया के संपर्क में आने का खतरा बढ़ जाता है।इसलिए कोरो काल में विदेशियों ने भी नमस्ते की संस्कृति को अपनाया।
जमीन पर बैठकर खाना

आजकल भारत के साथ-साथ पूरी दुनिया में डाइनिंग टेबल पर खाने का चलन बढ़ गया है।लेकिन प्राचीन भारत में लोग जमीन पर बैठकर चैन से खाना खाते थे।हालांकि आज भी भारत के ज्यादातर घरों में लोग अपने परिवार के सदस्यों के साथ जमीन पर बैठकर खाना खाते हैं।वे पीठ के बल जमीन पर बैठे हैं।

उसके बाद ही भोजन परोसा जाता है।स्टूल पर बैठना वास्तव में एक योगाभ्यास है।यह हमारे पाचन तंत्र को स्वस्थ बनाता है, वहीं एक साथ खाने से आपसी प्रेम बढ़ता है।
सेंधा में सिंदूर भरना

वैज्ञानिक तथ्य यह है कि हिंदू धर्म की महिलाएं शादी के बाद भी अपने सिर पर सिंदूर लगाती हैं।इस स्थान को ब्रह्मरंध्र कहा जाता है।दरअसल, सिंदूर में पारा होता है जो एक दवा के रूप में काम करता है और माना जाता है कि यह महिलाओं के रक्तचाप को नियंत्रित करने में मदद करता है।यह तनाव और अनिद्रा को भी नियंत्रित करता है।साथ ही कामोत्तेजना को भी बढ़ाता है।यही कारण है कि कुंवारी लड़कियों और महिलाओं के सिंदूर पहनने पर प्रतिबंध है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *