आर्यन का केस लड़ रहे सतीश मानशिंद कौन हैं?:संजूबाबा-सलमान खान से लेकर रिया चक्रवर्ती तक लड़ चुके हैं केस, 10 लाख फीस लेने की बात

आर्यन का केस लड़ रहे सतीश मानशिंद कौन हैं?:संजूबाबा-सलमान खान से लेकर रिया चक्रवर्ती तक लड़ चुके हैं केस, 10 लाख फीस लेने की बात

ब्यूरो ऑफ नारकोटिक्स कंट्रोल (एनसीबी) ने एक क्रूज पर छापेमारी कर शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान को गिरफ्तार किया है। आर्यन खान का केस भारत के जाने-माने क्रिमिनल लॉयर सतीश मानशिंद को लड़ना है। ये वही सतीश मानसिंदे हैं जिन्होंने रिया चक्रवर्ती का केस लड़ा था।

कौन हैं सतीश मानशिंदे?
1965 में कर्नाटक के धारवाड़ में जन्मे सतीश मानशिंद के पिता एक व्यवसायी थे और उनकी माँ एक गृहिणी थीं। उन्होंने कर्नाटक यूनिवर्सिटी कॉलेज ऑफ लॉ से बैचलर ऑफ कॉमर्स की डिग्री हासिल की है। इसके बाद उन्होंने एलएलबी (बैचलर ऑफ लॉ) की डिग्री ली। उन्हें कम उम्र से ही कानून का बहुत शौक था।

सतीश मानशिंदे 1983 में मुंबई आए और 1983 में अपने करियर की शुरुआत की। इस साल वे मुंबई आए थे। यहीं उसकी मौत हो गई। राम ने जेठमलानी के साथ इंटर्नशिप शुरू की। सतीश मानशिंदे ने जूनियर वकील के रूप में काम करना शुरू किया। उन्होंने लगभग 10 वर्षों तक राम जेठमलानी के अधीन काम किया। उन्होंने दीवानी और फौजदारी मामलों को संभाला। इस दौरान उन्होंने ज्यादातर कलाकारों, राजनेताओं और अन्य सेलेब्स के केस लड़े।

संजय दत्त का मामला
सामने आया 1993 में जब संजय दत्त के खिलाफ मुंबई ब्लास्ट का केस दर्ज हुआ तो सतीश मानशिंदे ने एक्टर का केस लड़ा। इस वजह से उनकी चर्चा पूरे देश में हुई थी। 1998 में जब सलमान खान के खिलाफ मृग शिकार का मामला दर्ज किया गया था, तब भी सलमान की ओर से सतीश मानशिंदे ने केस लड़ा था। इसके अलावा जब सलमान हिट एंड रन के मामले में शामिल थे, तब भी सतीश मानशिंद अभिनेता के वकील थे।

सतीश मानशिंदे मुंबई पुलिस दयानायक की संपत्ति के मामले, सट्टेबाज शोबन मेहता के मैच फिक्सिंग मामले, छोटा रंज की पत्नी सुजाता के मामले के कारण सुर्खियों में आए ।

एक करोड़ की फीस पर चर्चा की जा रही है
, सूत्रों ने बताया कि सतीश मानसिंदी चर्चा सुनते हुए 10 लाख रुपये की फीस लेते हैं। हालांकि, पिछले साल जूम टीवी से बातचीत में सतीश मानशिंदे ने फीस के बारे में कहा, ’10 साल पहले प्रकाशित एक रिपोर्ट के आधार पर अनुमान लगाया जा रहा है कि मेरी फीस 10 लाख रुपये है। 10 साल पुराने लेख को क्यों देखा जाता है? ऐसे में अब मेरी फीस ज्यादा होगी।’

उन्होंने आगे कहा, “मैं अपने क्लाइंट्स से चाहे जितनी भी फीस लूं, किसी और पर इसका असर नहीं होना चाहिए. अगर इनकम टैक्स मेरी फीस जानना चाहता है तो मैं उन्हें अच्छी तरह बता दूंगा। मैं कभी भी अपने और अपने मुवक्किल के बीच व्यक्तिगत मामलों पर चर्चा नहीं करना चाहता।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *