महाभारत काल के ये पांच लोग आज भी जीवित हैं, ये लोग चिरंजीवी कहलाते हैं

महाभारत काल के ये पांच लोग आज भी जीवित हैं, ये लोग चिरंजीवी कहलाते हैं

भारत वर्ष का सबसे बड़ा युद्ध है जिसे महाभारत के नाम से भी जाना जाता है। महाभारत का युद्ध कौरवों और पांडवों के बीच लड़ा गया था। इस युद्ध में कई महान योद्धा मारे गए। कई योद्धा ऐसे भी थे जो युद्ध में बच गए थे। इसके 14 अध्यक्ष थे। 15 में से बारह पांडव थे और आठ कौरव बच गए। कौरवों से लड़ने वाले तीन योद्धाओं में कृतवर्मा, कृपाचार्य और अश्वत्थामा थे। पांडवों से युयुत, युधिष्ठिर, भीम, अर्जुन, नकुल, सहदेव, श्रीकृष्ण, सात्यकि थे। लेकिन आज हम आपको उन पांच लोगों के बारे में बताने जा रहे हैं जो महाभारत काल में थे और आज भी जीवित हैं। तो आइए जानते हैं कौन हैं वो महान 6 लोग।

महर्षि वेद व्यास
महर्षि वेद व्यास का नाम कृष्ण द्वैपायन था। वह ऋषि पाराशर और सत्यवती के पुत्र थे। उन्हें वेद व्यास नाम मिला क्योंकि वे वेदों का एक हिस्सा थे। वेद व्यास ने भगवान गणेश को महाभारत लिखी थी। धृतराष्ट्र, पांडु और विदुर ऋषि वेद व्यास के पुत्र थे। इन तीनों पुत्रों में से जब धृतराष्ट्र के घर में वेदव्यास की कृपा से कोई पुत्र उत्पन्न नहीं हुआ तो 3 पुत्र और एक पुत्री उत्पन्न हुई। ऐसा माना जाता है कि वेद व्यास इस युग यानि काली काल तक जीवित रहेंगे।

ऐसा माना जाता है कि महाभारत के युद्ध के बाद वेदव्यास ने कई दिनों तक सार्वजनिक जीवन व्यतीत किया था। लेकिन इसके बाद वे तपस्या और ध्यान के लिए हिमालय पहुंचे। हालांकि, कलियुग की शुरुआत के बाद से उनके बारे में कोई स्पष्ट जानकारी नहीं मिली है। लेकिन ऐसा कहा जाता है कि पहली जातक कथा में उन्हें बोधिसत्व के रूप में जाना जाता है। जबकि दूसरी जातक कथा में उन्हें महाभारत का रचयिता माना जाता है।

महर्षि परशुराम
परशुराम का जीवन रामायण काल ​​का माना जाता है। परशुराम जमदग्नि और रेणुका के पुत्र थे। रामायण में उनका उल्लेख है। जब भगवान राम, सीता स्वयंवर में, शिव के धनुष पर प्रत्यंचा चढ़ाते हैं और वह टूट जाता है। तभी परशुराम सभा में आते हैं और देखते हैं कि भगवान शिव के धनुष को किसने तोड़ा। महाभारत में भी परशुराम का बहुत उल्लेख है। उनका पहला उल्लेख महाभारत में तब मिलता है जब वे भीष्म पितामह के गुरु बने।

महाभारत में एक ऐसी घटना भी है जिसमें भीष्म पितामह और परशुराम के बीच युद्ध हुआ था। महाभारत में उनका दूसरी बार उल्लेख किया गया है जब उन्होंने भगवान कृष्ण को सुदर्शन चक्र दिया था। तीसरी बार जब सूर्य के पुत्र कर्ण को ब्रह्मास्त्र द्वारा दंडित किया जाता है। ऐसा माना जाता है कि परशुराम चिरंजीवी हैं। परशुराम ने कठिन तपस्या करके भगवान विष्णु से आशीर्वाद प्राप्त किया था कि वह कल्प के अंत तक तपस्या विस्मृति पर रहेंगे।

ऋषि दुर्वासा
ऋषि दुर्वासा अपने 10,000 शिष्यों के साथ महाभारत में द्रौपदी की कुटिया में पहुंचे। इसके अलावा, उन्होंने एक बार कृष्ण के पुत्र सांबा को शाप दिया था। महाभारत काल में इनकी अनेक स्थानों पर चर्चा हुई है। उन्हें भी अमरता का वरदान प्राप्त है, ऋषि दुर्वासा भी अमर हैं।

जामवंती
जामवंत हनुमान और परशुराम से भी बड़े हैं। जामवंत श्रीराम के साथ त्रेतायुग में थे। द्वापरयुग में भगवान कृष्ण के ससुर बने क्योंकि उनकी बेटी जंबुवती भगवान कृष्ण की पत्नी थी। दरअसल, स्यामंतक मणि के लिए भगवान कृष्ण को जामवंत से युद्ध करना पड़ा था। उस समय श्रीकृष्ण युद्ध जीत रहे थे इसलिए जामवंत ने अपने भगवान श्रीराम को बुलाया। तब भगवान कृष्ण को उनकी बात माननी पड़ी और श्री राम के रूप में आना पड़ा। तब जामवंत ने अपनी गलती स्वीकार की और भगवान कृष्ण से क्षमा मांगी और स्यामंतक मणि दी और उनसे मेरी बेटी जामवती से शादी करने का आग्रह किया। इन दोनों के पुत्र का नाम सांबा रखा गया। जामवंत को अपने भगवान श्रीराम की कृपा प्राप्त हुई है। वे हमेशा के लिए जीवित रहेंगे। कल्कि अवतार के समय वह उनके साथ रहेंगे।

हनुमान
हनुमान की शक्ति और बुद्धि की महिमा चारों दिशाओं में फैली हुई है। वह भगवान श्रीराम के सबसे बड़े भक्त थे और रावण की सेना को हराने में उनकी सबसे बड़ी भूमिका थी। वह ड्रेपर युग में भी भगवान कृष्ण के साथ थे। कौरवों के साथ-साथ पांडवों की जीत में हनुमानजी का अहम योगदान था। हनुमान ने अर्जुन और कृष्ण को अपनी सुरक्षा का वरदान दिया। हनुमानजी भी चिरंजीवी हैं, उन्हें भी अपने भगवान श्रीराम की कृपा प्राप्त है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *