इन तीन चीजों का अपमान करने से सभी अच्छे का कामों पुण्य का अंत हो जाता है

इन तीन चीजों का अपमान करने से सभी अच्छे का कामों पुण्य का अंत हो जाता है

हमारे शास्त्रों में ऐसी तीन बातें बताई गई हैं जिनकी अवहेलना करने पर समस्त शुभ कर्मों का पूर्ण रूप से नाश हो जाता है और पाप का बोझ बढ़ जाता है। इन तीन बातों का अपमान करो और जितने चाहे अच्छे कर्म करो, लेकिन बोझ तुम्हारे सिर से नहीं उतर सकता। हम आपको अपने लेख में शास्त्रों में बताए गए तीन महान पापों के बारे में बताएंगे, जो मनुष्य के सभी पुण्य कर्मों को नष्ट कर देते हैं।

गाय का अपमान
शास्त्रों में गाय को बहुत पवित्र माना गया है और यही कारण है कि लोग गाय की पूजा करते हैं। ऐसा माना जाता है कि गाय के अंदर देवी-देवताओं का वास होता है और गाय की सेवा करने से पुण्य की प्राप्ति होती है। इतना ही नहीं पंचभूत में गाय को भी कहा गया है। हमारे पुराणों में कहा गया है कि गाय का अपमान करने वाला व्यक्ति पाप का शिकार हो जाता है और तीर्थों में जाकर और पवित्र नदियों में स्नान करने से भी गाय का अपमान करने का पाप कम नहीं होता है। इसलिए कभी भी गलती से गाय का अपमान नहीं करना चाहिए और गाय की सेवा करनी चाहिए। क्योंकि गाय की सेवा करने से अनेक पापों का नाश होता है।

गाय की सेवा कैसे करें

आज हर शहर को गौशाला की जरूरत है। आप इस गौशाला में जाकर गायों की सेवा कर सकते हैं। आप गौशाला में गायों को भोजन के लिए रोटी दे सकते हैं और उनकी सफाई करके भी पुण्य कमा सकते हैं।

गाय का अपमान कैसे करें
यदि कोई व्यक्ति किसी भूखे गाय को भोजन नहीं देता है तो यह गाय का अपमान है। इसी प्रकार यदि कोई व्यक्ति गाय की हत्या करता है तो भी वह पाप का शिकार होता है।

तुलसी का पौधा

तुलसी का पौधा एक पवित्र पौधा है और इस पौधे की पूजा करने से पुण्य की प्राप्ति होती है। लेकिन अगर इस पौधे का अपमान किया जाए तो व्यक्ति पाप में भागीदार बन सकता है। विष्णु पुराण में तुलसी के पौधे का उल्लेख करते हुए कहा गया है कि इस पौधे का अपमान करने पर भगवान नाराज हो जाते हैं। इसलिए अपने जीवन में कभी भी इस पौधे का अपमान न करें।

कितने पवित्र हैं ये पौधे
यह पौधा कितना पवित्र है इसका अंदाजा आप इस बात से लगा सकते हैं कि इस पौधे के घर में रहने से जीवन में नकारात्मक ऊर्जा नहीं बढ़ती है। इस पौधे की पत्तियों को भगवान विष्णु को अर्पित करना बहुत शुभ माना जाता है। वहीं इस पौधे की पूजा करने वाले को पुण्य की प्राप्ति होती है।

अपमान कैसे होता है
तुलसी के पौधे को घर में लगाकर पूजा नहीं करना आपके लिए पाप है। वहीं इस पौधे की पत्तियों को रात में तोड़ना उचित नहीं माना जाता है। इस पौधे के चारों ओर साफ-सफाई रखना भी आवश्यक है और इस पौधे के पास चप्पल पहनना इस पौधे का अपमान माना जाता है। गणेश और भगवान शिव की पूजा के दौरान कभी भी तुलसी के पत्तों का प्रयोग न करें।

गंगा का अपमान

गंगा नदी हमारे देश की पवित्र नदियों में से एक है और शिव पुराण में इस नदी के बारे में लिखा है कि जो लोग इस नदी के पानी में स्नान करते हैं, उनके पापों का नाश हो जाता है। इसके अलावा, इस नदी का अपमान करने से ऐसा पाप होता है जो कभी उतर नहीं सकता। इसलिए गंगा जल का हमेशा सही उपयोग करना चाहिए।

गंगाजल का अपमान कैसे होता है
गंगाजल को कभी भी अपने घर में ऐसी जगह नहीं रखना चाहिए जहां शराब जैसी चीजें रखी हों। इस पानी को कभी भी अशुद्ध हाथ से नहीं छूना चाहिए। पूजा के दौरान इस पानी का प्रयोग करते समय पानी की बोतल को सीधे जमीन पर नहीं रखना चाहिए, इसे जमीन के ऊपर किसी चीज पर रखना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *