fbpx

क्या महिलाएं पिंड दान कर सकती हैं? दान करने का पहला अधिकार किसके पास है? यदि पुत्र न हो तो क्या परिवार के सदस्य पिंडदान कर सकते हैं? जानिए यहाँ

B Editor

इस बार पितृ पक्ष 2021 की प्रारंभ तिथि सोमवार 20 सितंबर 2021 से शुरू हो गई है और अब यह बुधवार 6 अक्टूबर 2021 को अश्विन माह के कृष्ण पक्ष की अमावस्या यानि सर्व पितृ मोक्ष अमावस्या 2021 में होगी. इस बार यह दिन 11 साल बाद गजचय योग बनने जा रहा है। कुमार योग और सर्वार्थसिद्धि योग भी इस दिन मनाया जाता है। इस दिन सूर्य, चंद्र, मंगल और बुध मिलकर कन्या राशि में चतुर्ग्रही योग बनाते हैं। ऐसे में कुटुप काल में श्राद्ध करने से बहुत ही चमत्कारी परिणाम मिलेंगे।

शास्त्रों में उल्लेख है कि इस कर्म का पहला अधिकार पुत्र का होता है लेकिन यदि पुत्र नहीं है तो परिवार के अन्य सदस्यों में से किसी एक को अधिकार मिलता है। परिवार का कोई सदस्य नहीं होने पर माता-पिता भी रिश्तेदार पुजारी या कुलगुरु द्वारा किए गए श्राद्ध से संतुष्ट होते हैं।

श्राद्ध महिलाएं भी कर सकती हैं इसका उल्लेख मार्कंडेय पुराण और वाल्मीकि रामायण में भी मिलता है। विद्वानों ने यह भी कहा है कि यदि परिवार में पुरुष न हो तो महिलाएं भी उसके लिए श्राद्ध कर्म कर सकती हैं।

1. पिता का श्राद्ध पुत्र को करना चाहिए यदि पुत्र न हो तो पत्नी श्राद्ध कर सकती है।

2. पुत्री के पति और पौत्र भी श्राद्ध के पात्र होते हैं।पुत्र न हो तो पौत्र या प्रपौत्र भी श्राद्ध कर सकते हैं।यदि पुत्र, पौत्र, प्रपौत्र न हो तो विधवा श्राद्ध कर सकती है। यदि कोई पुत्र या पौत्र नहीं है तो भतीजे भी श्राद्ध कर सकते हैं दत्तक पुत्र भी श्राद्ध का हकदार है।

पुराणों के अनुसार कौवे को देवता का पुत्र माना गया है
। इसका एक कारण यह भी है कि पुराण कौवे को भगवान का पुत्र मानते हैं। एक कथा के अनुसार, इंद्र के पुत्र जयंत ने सबसे पहले कौवे का रूप धारण किया था। त्रेतायुग की घटना के अनुसार जयंत ने कौवे का रूप धारण कर लिया और माता सीता को घायल कर दिया। तब भगवान श्रीरामजी ने पटाखों को ब्रह्मास्त्र बनाकर जयंत की एक आंख को घायल कर दिया। जब जयंत ने अपने काम के लिए माफ़ी मांगी तो रामजी ने आशीर्वाद दिया कि जो भोजन आपको दिया जाएगा वह माता-पिता को दिया जाएगा। तभी से श्राद्ध में कौवे को भोजन कराने की परंपरा चली आ रही है।

दान और तर्पण से माता-पिता संतुष्ट होते हैं
। वायु, गरुड़ और अन्य पुराणों में भी उल्लेख है कि पितृसत्तात्मक पार्टी में किया गया श्राद्ध और श्राद्ध के अनुसार दिया गया दान पिता को संतुष्ट करता है और साथ ही श्राद्ध करने वालों को शारीरिक, मानसिक, पारिवारिक और वित्तीय समस्याओं से राहत मिल सकती है। .

पितृसत्ता में पंचबली खास
पुरी के ज्योतिषी डॉ. गणेश मिश्र कहते हैं कि श्राद्ध पक्ष में माता-पिता को दिया जाने वाला तर्पण उन्हें जीवन में कालसर्प दोष जैसी समस्याओं से मुक्त कर सकता है। इस बीच पंच महाबली देना बहुत फायदेमंद होता है। पंच महाबली का अर्थ है गाय की बलि, कुत्ता, देवबावी और पिपिका यज्ञ।बलि का अर्थ है भोजन देना।

Leave a comment