चाणक्य ज्ञान: इन 5 चीजों से कभी संतुष्ट नहीं होता है इंसान, इस के कारण इंसान का जीवन हो जाता बर्बाद

चाणक्य ज्ञान: इन 5 चीजों से कभी संतुष्ट नहीं होता है इंसान, इस के कारण इंसान का जीवन हो जाता बर्बाद

चाणक्य नीति दुनिया की सबसे आधिकारिक नीतियों में से एक है। विशेष रूप से भारत में बड़ी संख्या में लोग चाणक्य नीति का पालन करते हैं। ऐसा माना जाता है कि इस नीति के आधार पर चलने से लोग दुख और गरीबी जैसी चीजों को छू नहीं पाते हैं। यदि आप भी अपने जीवन में चाणक्य नीति को अपनाते हैं, तो आपको वह सफलता प्राप्त होगी जिसकी आपको आवश्यकता है। आज हम आपको चाणक्य नीति शास्त्र के उन लोगों में से एक से मिलवाने जा रहे हैं, जिन्हें अगर आप पढ़कर अपने जीवन में लागू करेंगे तो आपके जीवन में खुशियों का आगमन होगा। तो बता दें कि चाणक्य आखिर नैतिकता का श्लोक है।

मनुष्य अपने सुख-शांति की प्राप्ति के लिए हर कार्य करता है। उसके लिए व्यक्ति सुख के लिए उन साधनों के पीछे भागता है, जिससे उसका जीवन आसान हो जाता है। इन चीजों में धन, धन, मान सम्मान, शारीरिक और मानसिक सुख शामिल हैं। लेकिन कुछ चीजें ऐसी होती हैं जिनसे इंसान कभी संतुष्ट नहीं हो सकता। इसी से संबंधित चाणक्य ने अपने नीति शास्त्र में एक श्लोक दिया है। इस श्लोक में उन 3 चीजों का जिक्र है, जिनकी ओर व्यक्ति हमेशा आकर्षित होता है।

धनेषु जीवितव्येषु स्त्रीषु भोजनवृत्तिषु। अतृप्ताः मानवाः सर्वे याता यास्यन्ति यान्ति च॥

धन

इस श्लोक में चाणक्य कहते हैं कि व्यक्ति हमेशा धन की ओर आकर्षित होता है। मनुष्य के पास चाहे जितनी दौलत हो, लेकिन धन एक ऐसी चीज है जिसकी वासना हमेशा उसके जीवन में मौजूद रहती है। इंसान आखिरी सांस तक पैसा कमाने की कोशिश करता है। वह हमेशा सोचता है कि सबसे ज्यादा पैसा कहां से आता है। ऐसे लोग पैसे से कभी संतुष्ट नहीं हो सकते। स्थिति अक्सर ऐसी हो जाती है कि व्यक्ति अपने लिए गलत रास्ता चुन लेता है। इसलिए यह कहना गलत नहीं होगा कि पैसे का लालच व्यक्ति के जीवन को तबाह कर देता है।

जीवनकाल

चाणक्य ने भी इस श्लोक में जीवन का उल्लेख किया है। चाणक्य कहते हैं कि जो इस धरती पर जन्म लेता है वह कभी मरना नहीं चाहता, यही व्यक्ति का स्वभाव है। आखिर कोई व्यक्ति कितना भी अमीर या गरीब क्यों न हो, वह अपने जीवन से कभी संतुष्ट नहीं होता है।

भोजन

चाणक्य इस श्लोक में भोजन का उल्लेख करते हैं और कहते हैं कि व्यक्ति कितना भी खा ले, वह हमेशा अधिक खाना चाहता है। मनुष्य कभी भी भोजन से संतुष्ट नहीं होता है। चाणक्य कहते हैं कि व्यक्ति को केवल वही खाना चाहिए जो उसे चाहिए। अधिक खाने से कई स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं।

महिला

इस श्लोक के अंत में चाणक्य स्त्री के साथ-साथ भोजन का भी उल्लेख करता है। चाणक्य का मानना ​​है कि जरूरत के हिसाब से इच्छा पूरी होने पर भी जातक का मोह बना रहता है। ज्यादातर पुरुष हमेशा महिलाओं से असंतुष्ट रहते हैं। तेवा में यह असंतोष मानव जीवन को बर्बाद कर देता है।

चाणक्य के अनुसार व्यक्ति को कभी भी धन, जीवन, भोजन और स्त्रीत्व से असंतुष्ट नहीं होना चाहिए, अन्यथा उसका जीवन बर्बाद हो सकता है। चाणक्य कहते हैं कि जो व्यक्ति इन 5 चीजों को जीत लेता है उसे सुख की प्राप्ति होती है, नहीं तो उसका जीवन बर्बाद हो जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *