चाणक्य नीति: ये बातें किसी को नहीं सिखाई जा सकतीं, ये 5 गुण किसी व्यक्ति में जन्मजात होते हैं

चाणक्य नीति: ये बातें किसी को नहीं सिखाई जा सकतीं, ये 5 गुण किसी व्यक्ति में जन्मजात होते हैं

आचार्य चाणक्य पाटलिपुत्र (अब पटना के नाम से जाना जाता है) के एक महान विद्वान थे। चाणक्य अपने न्यायपूर्ण आचरण के लिए जाने जाते हैं। इतने बड़े साम्राज्य का मंत्री होते हुए भी वे एक मामूली सी झोपड़ी में रहते थे। उनका जीवन बहुत सादा था। चाणक्य ने अपने जीवन के अनुभवों के आधार पर चाणक्य नीति को स्थान दिया है। चाणक्य नीति में कहा गया है कि अगर कोई व्यक्ति इसे लागू करता है, तो उसे सफल होने से कोई नहीं रोक सकता है और वह निश्चित रूप से सफल होगा।

यदि कोई व्यक्ति अपने निजी जीवन में इन बातों का अभ्यास करता है, तो उसे कभी भी हार का सामना नहीं करना पड़ेगा। इस नीति में छिपा है सुखी जीवन का राज। नीति में जो कहा गया है वह कड़वा हो सकता है, लेकिन यह बिल्कुल सच है। चाणक्य नीति में कुछ बातों का उल्लेख है, जिनके गुण हम सभी में जन्मजात होते हैं। ये गुण किसी ने नहीं सिखाए हैं। आज हम आपको उन्हीं गुणों के बारे में बताएंगे। हर व्यक्ति इन 5 गुणों के साथ पैदा होता है।

परोपकारी होने का गुण

चाणक्य नीति के अनुसार किसी भी व्यक्ति में परोपकारी होना स्वाभाविक है। यह उसके स्वभाव में है। उस व्यक्ति के दान को बढ़ाना या घटाना किसी के ऊपर नहीं है। वह उतना ही दान-पुण्य करेगा, जितना करने की क्षमता है।

यह सच है-गलत के बीच एक निर्णय लेना निशान

जीवन में परिस्थितियाँ हर समय एक जैसी नहीं रहती, हर बार अलग-अलग परिस्थितियाँ उत्पन्न होती हैं। उसमें व्यक्ति को सही गलत का निर्णय करना होता है। चाणक्य नीति के अनुसार व्यक्ति में जन्म से ही यह गुण होता है कि वह हर बुरे समय में सही निर्णय ले सकता है। यह गुण उसे कोई नहीं सिखा सकता।

धैर्य का गुण

यदि किसी व्यक्ति में धैर्य का गुण हो तो वह जीवन की हर परिस्थिति से बच सकता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि जो व्यक्ति बिना सोचे समझे निर्णय लेता है उसे आगे जाकर समस्या का सामना करना पड़ता है। चाणक्य नीति के अनुसार व्यक्ति में धैर्य का गुण जन्मजात होता है। धैर्य का गुण कोई नहीं सिखा सकता।

नमक-कड़वा बोलने की गुणवत्ता

चाणक्य नीति के अनुसार कड़वा बोलने वाला व्यक्ति हमेशा कड़वा बोलता है। थोड़ी देर नमक बोलने के अलावा अपनी ही कड़वाहट में पड़ जाते हैं। ऐसा व्यक्ति किसी के समझाने पर भी अपना कड़वा स्वभाव नहीं बदल पाता है। ये गुण उनमें जन्मजात होते हैं। कड़वा बोलने वाले को नमक बोलना सिखाना नामुमकिन है और जिसकी वाणी जन्म से मीठी हो उसे कड़वा बोलना सिखाना नामुमकिन है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *