ॐ शब्द का जाप करने से होगा बेहद धनलाभ, जानिए ॐ शब्द का जाप करने का सही वक्त

ॐ शब्द का जाप करने से होगा बेहद धनलाभ, जानिए ॐ शब्द का जाप करने का सही वक्त

हिंदू धर्म में ‘ओम’ शब्द को बहुत पवित्र और धार्मिक माना जाता है। हिंदू धर्म और शास्त्रों में ‘ओम’ शब्द के बिना कुछ भी अधूरा नहीं माना जाता है। किसी भी देवी या देवता की पूजा में सबसे पहले ‘om’ शब्द का उच्चारण किया जाता है। हिंदू धर्म में हर पवित्र मंत्र में ओम शब्द का प्रयोग जरूरी माना गया है। शास्त्रों के अनुसार ओम शब्द को भगवान शिव का सबसे प्रिय शब्द माना गया है।

औषधि शब्द को विज्ञान ने भी स्वीकार किया है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार ओम शब्द के मात्र उच्चारण से निकलने वाली ध्वनि मन को शांत करती है और लोगों को कई बीमारियों से मुक्त करती है। इस शब्द में कितनी शक्ति है। पता करें कि ओम शब्द का उच्चारण करने का सही तरीका क्या है और इस शब्द को कहने का सबसे अच्छा समय क्या है।

आप ‘ओम’ शब्द का उच्चारण कैसे करते हैं? सबसे पहले यह जान लें कि ‘ओम’ शब्द अपने आप में एक संपूर्ण मंत्र है। यह मंत्र सुनने में छोटा और आसान लगता है लेकिन इसका उच्चारण करना उतना ही कठिन है। आमतौर पर लोग ओम शब्द का गलत उच्चारण करते हैं। गौरतलब है कि हिंदू धर्म में किसी भी मंत्र का गलत उच्चारण करने से बुरा प्रभाव पड़ता है।

‘om’ शब्द तीन अक्षर का शब्द है। अक्षर ए, यू और एम हैं। जिसमें अक्षर ‘अ’ का अर्थ है उत्पादन करना, ‘उ’ का अर्थ उठना और ‘म’ अक्षर का अर्थ है चुप रहना। यानी जब ये तीनों अक्षर मिलें तो ब्रह्मलीन हो जाना। इसलिए जब भी ओम शब्द का उच्चारण करें तो इन तीन अक्षरों का ध्यान रखें।

जब ओम का उच्चारण किया जाता है, तो एक विशेष ध्वनि उत्पन्न होती है जो शरीर के विभिन्न भागों में कंपन पैदा करती है। जब आप ‘U’ कहते हैं तो आपके शरीर का मध्य भाग कांपता है। इसका आपकी छाती, फेफड़े और पेट पर बहुत अच्छा प्रभाव पड़ता है। जब आप ‘मैं’ कहते हैं, तो इसकी आवाज आपके दिमाग को कांपती है। इससे दिमाग की सारी नसें खुल जाती हैं।

इन दोनों अंगों में शरीर के महत्वपूर्ण अंग मौजूद होते हैं। के स्वर से उत्पन्न कंपन शरीर को भीतर से शुद्ध करता है। इतना ही नहीं, यह आपकी याददाश्त और ध्यान करने की क्षमता में भी सुधार करता है। om का उच्चारण करने से मन को शांति मिलती है। ऐसा माना जाता है कि इस शब्द का स्वर इतना पवित्र है कि अगर आप तनाव में हैं तो आपका तनाव भी इससे दूर हो जाता है। यह शब्द सोचने और समझने का तरीका बदल देता है और छोटी-छोटी मुश्किलों से निकलने का रास्ता दिखाता है।

‘ओम’ शब्द कहने का सही समय: सब कुछ करने का एक सही समय होता है। किसी भी मंत्र का जाप करने का भी समय होता है। यदि आप किसी भी मंत्र का जाप किसी भी समय शुरू कर देते हैं, तो उसका अच्छा नहीं बल्कि बुरा प्रभाव हो सकता है। इसी तरह ‘O’ मंत्र का जाप करने का भी सही समय होता है।

ऐसा कहा जाता है कि यदि आप ‘ओम’ शब्द का उच्चारण करना चाहते हैं और इसका लाभ उठाना चाहते हैं, तो आपको सुबह सूर्योदय से पहले सुखासन मुद्रा में एक शांत स्थान पर बैठना चाहिए और ‘ओम’ शब्द का उच्चारण करना चाहिए। ध्यान दें कि जब आप ‘ૐ’ शब्द का उच्चारण करते हैं तो संख्या 108 होनी चाहिए।

जब आप ‘om’ शब्द का उच्चारण करते हैं तो आपको बस उस शब्द पर ध्यान देना होता है। जब आप इस शब्द को कहते हैं तो आपको इसे अंदर से महसूस करना होता है जब आप इस शब्द को कहते हैं तो आपको ध्यान करना होता है और साथ ही इस शब्द को देखना होता है, लेकिन मन की आंखों से। इसके लिए आंखें बंद करके ‘om’ शब्द का उच्चारण करना चाहिए। इससे आप पूरे ध्यान और मन से इस मंत्र का जाप कर पाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *