मकर संक्रांति के दिन न करें ऐसा काम, वरना आ सकता है कुंडली में दोष

मकर संक्रांति के दिन न करें ऐसा काम, वरना आ सकता है कुंडली में दोष

मकर संक्रांति का पर्व सूर्य देव को समर्पित है। मकर संक्रांति तब मनाई जाती है जब सूर्य धनु राशि में प्रवेश करता है। मकर संक्रांति का पर्व हिंदुओं के लिए बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है। क्योंकि इस दिन से पुन: शुभ कार्य किए जा सकते हैं। मकर संक्रांति के दिन से कामुरता का अंत हो रहा है।

मकर संक्रांति के दिन कुछ कर्मों को शुभ माना जाता है और कुछ कर्मों को अशुभ माना जाता है। आइए जानते हैं मकर संक्रांति के दिन कौन-कौन से कार्य करने चाहिए।

मकर संक्रांति के दिन दान करना बहुत शुभ माना जाता है। इस दिन खीचड़ी, तिल और घी का दान करने से हमें सौ गुना अधिक फल मिलता है। मकर संक्रांति के दिन पूजा पाठ, हवन, मंत्र जाप का एक अलग ही महत्व है।

मकर संक्रांति के दिन सुबह जल्दी उठकर सूर्य देव को जल अर्पित करना भी शुभ माना जाता है। इस दिन देर तक न सोएं। यह भी कहा जाता है कि जो व्यक्ति इस दिन देर से सोता है उसे सूर्य देव के प्रभाव से जीवन में परेशानियों का सामना करना पड़ता है और इस दिन से व्यक्ति का समय खराब होता है।

इस दिन क्या न करें
मकर संक्रांति के दिन लहसुन और प्याज का सेवन नहीं करना चाहिए। इस दिन किसी से क्रोध नहीं करना चाहिए और किसी के साथ बुरा व्यवहार नहीं करना चाहिए। इस दिन बिना स्नान किए भोजन नहीं करना चाहिए।

इस दिन कोई भी पेड़ नहीं काटना चाहिए। इस दिन किसी भी प्रकार का नशा नहीं करना चाहिए। इस दिन नशा करने से कुंडली में सूर्य का दोष बढ़ जाता है।

इस दिन सिगरेट या गुटखा का सेवन नहीं करना चाहिए। ऐसा भी माना जाता है कि मकर संक्रांति के दिन मसालेदार भोजन नहीं करना चाहिए।

इस दिन तिल, खीचड़ी जैसे भोजन का सेवन करना चाहिए। ऐसा माना जाता है कि मकर संक्रांति के दिन यदि कोई भिखारी या साधु आपके घर आ जाए तो उसे बिना दान किए वापस नहीं भेजना चाहिए।

ऐसा करना अशुभ माना जाता है। आप जितना हो सके उतना दान कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *