इस मुस्लिम देश में आज भी हिंदू-मुसलमान दोनों करते हैं इस देवी की पूजा

इस मुस्लिम देश में आज भी हिंदू-मुसलमान दोनों करते हैं इस देवी की पूजा

साक्ष्य प्रस्तुत किया गया है कि एक समय में पूरी दुनिया में एक ही धर्म था। यह धर्म शाश्वत था और लोग इसके अनुसार रहते थे। लेकिन इसमें कितनी सच्चाई है ये कोई नहीं जानता. आज हम आपसे एक ऐसे मुस्लिम देश के बारे में बात करने जा रहे हैं जहां आज भी भगवान कृष्ण की पूजा की जाती है। इस देश का इतिहास लगभग सनातन धर्म जितना ही पुराना है। हम बात कर रहे हैं उज्बेकिस्तान नाम के देश की। जब आप इस देश का इतिहास जानेंगे, तो आपको सनातन धर्म में बहुत कुछ मिलेगा। जब कृष्ण की पूजा करने की बात आती है, तो उज्बेकिस्तान के खिवा शहर में लोग भगवान कृष्ण को मानते हैं।

इस शहर के लोगों को भगवान कृष्ण के जीवन से जुड़ी हर कहानी और घटना का ज्ञान है। हैरानी की बात यह है कि इन लोगों को महाभारत में कृष्ण की भूमिका की जानकारी भी है। आने वाली पीढि़यां इस ज्ञान से वंचित रहेंगी। क्योंकि कुछ कट्टरपंथियों को इससे जलन होती दिख रही है. लेकिन अब तक यहां के लोग कृष्ण की पूजा कर रहे हैं।

खिवा शहर के लोग आज भी भगवान कृष्ण की पूजा करते हैं, यह कट्टरपंथियों के लिए नफरत की बात है। अब देखने में आया है कि यहां के लोग भगवान कृष्ण की मूर्ति होने से डरते हैं। इसके पीछे का कारण आपको बताने की जरूरत नहीं है। लेकिन सबसे बड़ी बात यह है कि इन लोगों के दिलों में आज भी भगवान कृष्ण के लिए अथाह प्रेम है।

खिवा शहर का इतिहास
खिवा शहर का इतिहास हजारों साल पुराना बताया जाता है। यहां के घर इस तरह से बनाए गए हैं जो काफी हद तक भारतीय समुदाय से मिलते-जुलते हैं। आपसी प्रेम बनाए रखने के लिए घर का एक दरवाजा दूसरे घर के आँगन में जाता है। यहां पेड़ों की पूजा करने का भी रिवाज है। साथ ही यहां पेड़-पौधे ज्यादा नहीं हैं, लेकिन जितने पेड़ हैं, सनातन धर्म की तरह उनकी पूजा की जाती है.

यहाँ भगवान कृष्ण की पूजा क्यों की जाती है?

अगर उज्बेकिस्तान के खिवा शहर के लोग भगवान कृष्ण को मानते हैं और उनकी पूजा करते हैं, तो उनके पीछे कोई न कोई इतिहास जरूर रहा होगा। हालांकि ईरानियों का कहना है कि उन्होंने सबसे पहले इस शहर की खोज की, लेकिन सच्चाई स्पष्ट नहीं है। क्योंकि अगर यहां के लोग भगवान कृष्ण के जीवन से प्रभावित हैं तो अवश्य ही भगवान कृष्ण से जुड़ा कोई इतिहास रहा होगा।

तो इस लेख को पढ़ने के बाद यह स्पष्ट हो जाता है कि भारत के बाहर सनातन धर्म था और आज भी कहा जाता है कि उज्बेकिस्तान के लोग भगवान कृष्ण का उतना ही सम्मान करते हैं जितना हम भारतीय करते हैं। तो अब जब आप विश्व भ्रमण पर जाएं, तो उज्बेकिस्तान की यात्रा करके इसकी पुष्टि करना न भूलें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *