कैंसर और दिल की समस्याओं के लिए बेहद फायदेमंद है यह जड़ी बूटी, जानिए इस के चमत्कारी फायदे

कैंसर और दिल की समस्याओं के लिए बेहद फायदेमंद है यह जड़ी बूटी, जानिए इस के चमत्कारी फायदे

आयुर्वेद की दुनिया में कई समस्याओं का समाधान बताया गया है। इसमें अधिकांश रोगों का उपचार जड़ी-बूटियों से किया जाता है। आयुर्वेद में कई अद्भुत जड़ी बूटियां मौजूद हैं, उन्हीं में से एक है शतावरी। इसके बारे में बहुत कम लोग जानते हैं। अगर आप भी उन लोगों में से हैं जो नहीं जानते कि शतावरी क्या है और इसके क्या फायदे हैं तो चिंता करने की जरूरत नहीं है। क्योंकि आज हम आपको शतावरी के पौधों के बारे में विस्तार से जानकारी देने जा रहे हैं।

शतावरी एक जड़ी बूटी है जो बेल की तरह दिखती है। भारत में कई जगहों पर इसकी खेती की जाती है। शतावरी की एक बेल के नीचे 100 से अधिक जड़ें होती हैं। जड़ें 1-2 सेमी. मोटा और लगभग 30-100 सेमी। गहरे हैं। जानकारों के मुताबिक शतावरी की पहचान साल 1799 में हुई थी। इसके गुणों की बात करें तो इसमें विटामिन ए, विटामिन बी6, विटामिन सी, विटामिन ई, प्रोटीन, विटामिन के, फोलेट, कैल्शियम, फाइबर और आयरन होता है।

अगर आप अपने बढ़ते वजन से परेशान हैं और कई कोशिशों के बाद भी आपका मोटापा कम नहीं हो रहा है तो आप शतावरी का सहारा ले सकते हैं। इसे वजन घटाने के लिए एगेव माना जाता है। इसमें मौजूद घुलनशील और अघुलनशील फाइबर वजन घटाने में मदद करते हैं। इसमें फैट और कैलोरी भी बहुत कम होती है। इसलिए वजन कम करने के लिए इसे एक अच्छा आहार माना जाता है।

शतावरी का उपयोग मूत्र पथ के संक्रमण या यूटीआई और गुर्दे के लिए किया जाता है। इस तरह की समस्या में यह बहुत फायदेमंद होता है। इसे प्राकृतिक मूत्रवर्धक कहा जाता है। बार-बार पेशाब आने से शरीर से अतिरिक्त नमक और तरल पदार्थ निकल जाता है। यही कारण है कि शतावरी के सेवन से यूटीआई और किडनी दोनों को फायदा होता है।

शतावरी के सेवन से हृदय को भी स्वस्थ रखा जा सकता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि इसमें कोलेस्ट्रॉल की मात्रा कम होती है और यह दिल के लिए बहुत अच्छा होता है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट होने के कारण यह हृदय रोगों को रोकने में मदद करता है।

शतावरी सांस के रोगियों के लिए भी काफी फायदेमंद साबित होती है। इसके अलावा यह रक्त संबंधी रोगों, पित्त और पित्त संबंधी विकारों, छाती में सूजन और बेहोशी की समस्याओं में भी बहुत उपयोगी है।

मां बनने के बाद कई महिलाओं को स्तनों में दूध की कमी की समस्या का सामना करना पड़ता है। ऐसे में अगर वे शतावरी का सेवन करते हैं तो यह फायदेमंद हो सकता है। इसके लिए 10 ग्राम शतावरी की जड़ का चूर्ण दूध में मिलाकर पीएं। इस दूध के सेवन से स्तनों में दूध की कमी कम होती है।

कई अध्ययनों के अनुसार, शोधकर्ताओं ने बताया है कि डामर में सल्फोराफेन, एंटीऑक्सिडेंट और विरोधी भड़काऊ पदार्थ होते हैं, जो कैंसर को रोकने में मदद करते हैं।

बहुत से लोग खराब मर्दानगी या यौन सहनशक्ति की कमी से पीड़ित होते हैं। ऐसे में शतावरी का सेवन फायदेमंद हो सकता है। इसके लिए दूध में शतावरी पाउडर मिलाकर हलवा बनाकर सेवन करें। ऐसा करने से यौन शक्ति बढ़ती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *