सुखासन मुद्रा में बैठकर क्यों खाना चाहिए खाना, पूर्वजों के अनुसार बहुत खास है इसकी वजह

सुखासन मुद्रा में बैठकर क्यों खाना चाहिए खाना, पूर्वजों के अनुसार बहुत खास है इसकी वजह

वजन घटाने के बाद थकान और लगातार थकान होगी, न कि केवल व्यायाम या विशेष आहार। दिलचस्प बात यह है कि वजन घटाना पूरी तरह से इस बात पर निर्भर करता है कि आप अपना खाना कैसे खाते हैं। विशेषज्ञों के अनुसार, भोजन के दौरान जमीन पर क्रॉस लेग करके बैठने से आपको अपने भोजन को बेहतर ढंग से पचाने में मदद मिलती है। इतना ही नहीं क्रॉस लेग की मदद से हम तेजी से वजन कम कर पाते हैं। भोजन के दौरान इस मुद्रा में बैठना सुखासन कहलाता है। जानकारों के अनुसार खाने के लिए यह एक अच्छी मुद्रा है।

सुखासन खाना पचाने और अवशोषित करने के लिए फायदेमंद होता है
आपके भोजन के दौरान सुखासन या क्रॉस लेग सीटिंग पोज़ बहुत अच्छा माना जाता है। योग और फिटनेस विशेषज्ञ जूही कपूर के अनुसार, ये खाद्य पदार्थ भोजन को तेजी से पचाने, पोषक तत्वों को बेहतर तरीके से अवशोषित करने और चयापचय को बढ़ावा देने में मदद करते हैं।

उनका कहना है कि सुखासन मुद्रा गेम चेंजर है। इस मुद्रा में बैठने से आमतौर पर आप कम खाएंगे, जिससे कैलोरी कम होगी। इसके अलावा इस मुद्रा में बैठकर खाने से आपका ध्यान इस बात पर रहता है कि आप क्या और कैसे खा रहे हैं। यह फोकस आपके खाने की आदतों को नियंत्रित करने में आपकी मदद करेगा।

सुखासन में कैसे बैठें
सुखासन मुद्रा में बैठने के लिए, अपने पैरों को बार-बार क्रॉस करें और घुटनों के अंदर से झुकें।

घुटने बाहर की ओर होने चाहिए। उठो बैठो। इस दौरान घुटनों को जमीन से छूने की कोशिश करें। इस बिंदु पर आपकी बेंच भी क्रॉस और जांघ के नीचे होनी चाहिए।
अब आप चाहें तो अपनी हथेली को अपनी गोद में या अपने घुटनों पर रख सकते हैं।
जमीन पर बैठकर भोजन करें और हर बार अपने पैरों के क्रॉस को बदलें। तब भी जब आप डाइनिंग टेबल पर बैठे हों।

बहुत से लोगों को इस मुद्रा में बैठना मुश्किल लगता है। इनमें पीठ दर्द, घुटने का फ्रैक्चर, रीढ़ की हड्डी की समस्याएं और साइटिका शामिल हैं। जूही कपूर का कहना है कि अगर आप सुखासन करते हुए जमीन पर नहीं बैठ सकते हैं तो आप एक साधारण सिद्धासन में बैठ सकते हैं। खासकर जो लोग स्लिप डिस्क की समस्या से जूझ रहे हैं उन्हें सुखासन का विकल्प नहीं अपनाना चाहिए। तो जानिए क्या है सिद्धासन।

सिद्धासन क्या है?
सिद्धासन ऋषि-ऋषि, तपस्वी द्वारा ध्यान के लिए किया जाता है। इस आसन को करने से तन और मन दोनों को बहुत फायदा होता है। योग विज्ञान के अनुसार यह आसन ध्यान के लिए बहुत शक्तिशाली है। ऐसा करने से न सिर्फ बॉडी पोस्चर में सुधार होता है, बल्कि रीढ़ की हड्डी को भी काफी फायदा होता है।

कैसे करें सिद्धासन

पहले जमीन पर बैठ जाएं।
एक पैर पेरिनेम पर रखें।
दूसरी एड़ी को आंशिक रूप से पहली एड़ी पर रखें, अपने हाथों को अपने घुटनों पर रखें। ध्यान रहे इस दौरान कोहनियां न झुकें।

रीढ़ को सीधा रखें। बता दें कि प्राणायाम और ध्यान के लिए यह सबसे उत्तम आसन है।
सिद्धासन के लाभ

यह आपके पैरों के सामने फैलाता है।
बहुत सारी मांसपेशियों को मजबूत करता है। बछड़े को टोन करने से शरीर का निचला हिस्सा मजबूत होता है।

इस आसन में बैठने से काठ की मांसपेशियां मजबूत होती हैं। जो कूल्हे के लचीलेपन को बेहतर बनाने में मदद करता है।

रीढ़ की हड्डियों को मजबूत करने के लिए आसन अच्छे माने जाते हैं।

शरीर में तनाव और चिंता के स्तर को कम करने के लिए इस मुद्रा में बैठना बहुत जरूरी है।

सुखासन की तरह सिद्धासन भी कूल्हे और जांघ के जोड़ों को फैलाता है।
यह योग एक अच्छा हिप ओपनर है। क्योंकि यहां आपकी पीठ का निचला हिस्सा कूल्हे के हिस्से को मजबूत करने का काम करता है।

सुखासन में बैठना और खाना एक छोटा सा दैनिक प्रयास है। एक विकल्प के रूप में आप सिद्धासन कर सकते हैं। ये दोनों ही आपको फिट रखने में मदद करेंगे। सुखासन करते समय इस बात का ध्यान रखें कि प्रतिदिन पैरों का क्रॉस बदलें। अच्छे परिणामों के लिए इस अध्ययन को रोजाना शुरू करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *