इस प्रकार पीपल के पेड़ की 108 फेरे करने से भाग्य परिवर्तन होता है, दरिद्रता दूर होती है।

इस प्रकार पीपल के पेड़ की 108 फेरे करने से भाग्य परिवर्तन होता है, दरिद्रता दूर होती है।

हिंदू धर्म में कई पेड़ों को बहुत पवित्र माना जाता है और उनकी पूजा भी की जाती है। ऐसा करने से विशेष लाभ होता है। पीपल के पेड़ की परिक्रमा करना बहुत जरूरी है और उस पेड़ की परिक्रमा करने से मनचाही चीज की प्राप्ति होती है। परिक्रमा का अर्थ है वृक्ष के चारों ओर घूमना। शास्त्रों में परिक्रमा को परिक्रमा भी कहा गया है और इसे इसकी पूजा का अंग भी माना गया है। पीपल के पेड़ की परिक्रमा करने से कई फायदे मिलते हैं। अत: इस वृक्ष की परिक्रमा अवश्य करें। ऐसा माना जाता है कि पीपल के पेड़ के 108 चक्र करने से मानसिक कार्य पूरे होते हैं। तो आज हम पीपल के पेड़ की परिक्रमा करने के फायदे के बारे में बताएंगे।

शरीर रहता है स्वस्थ
पीपल के पेड़ की परिक्रमा करना स्वास्थ्य के लिए अच्छा होता है। शास्त्रों के अनुसार इस पेड़ की छाया में खड़े होने से शरीर को ताजी हवा और भरपूर ऑक्सीजन मिलती है, इसलिए इस पेड़ के चारों ओर घूमने वालों को सांस की कई समस्याएं और खांसी की समस्या नहीं होती है।

देवताओं की कृपा बनी रहती है

स्कंद पुराण में पीपला वृक्ष का उल्लेख करते हुए कहा गया है कि उस वृक्ष की परिक्रमा करने से प्रत्येक देवता की कृपा प्राप्त होती है। इसलिए देवी-देवताओं को प्रसन्न करने के लिए पीपल के वृक्ष की परिक्रमा करनी चाहिए। प्राचीन काल से लोग देवताओं को प्रसन्न करने के लिए पीपल के पेड़ की पूजा और परिक्रमा करते थे।

गरीबी दूर होती है
पीपल के पेड़ पर विष्णुजी और मां लक्ष्मी का वास माना जाता है। शास्त्रों के अनुसार मंगल मुहूर्त में यदि पाइप की परिक्रमा की जाए और उस पर जल डाला जाए तो लक्ष्मीजी प्रसन्न होती हैं और जीवन में दरिद्रता दूर होती है। इसलिए जो लोग गरीबी या धन की हानि का सामना कर रहे हैं, उन्हें पीपल के पेड़ की पूजा करनी चाहिए।

जीवन में आती है खुशियां

पाइप की पूजा करने से दुख और दुर्भाग्य का नाश होता है और जीवन में खुशियां आती हैं। जीवन में समृद्धि प्राप्त करने के लिए प्रतिदिन पीपल के पेड़ की पूजा करनी चाहिए और पीपल के पेड़ पर चावल लगाना चाहिए। इसे लगातार 11 दिन तक करने से जीवन में खुशियां आएंगी।

शनिदेवी से रक्षा

जिन लोगों की कुंडली में शनि की स्थिति अच्छी नहीं है उन्हें पीपल के पेड़ की पूजा करनी चाहिए। शनिवार या अमास के दिन पीपला के पेड़ की पूजा करने और पीपला के पेड़ की 5 परिक्रमा करने से शनि की पीड़ा से राहत मिलती है और परिक्रमा के बाद पेड़ पर काले तिल लगाने से भी राहत मिलती है।

इन बातों का रखें ध्यान
परिक्रमा करने से पहले पिपला की पूजा करनी चाहिए। पूजा के समय पीपल के पेड़ पर जल चढ़ाकर लाल रंग की रस्सी बांधनी चाहिए। फिर परिक्रमा करें।
उस पेड़ की कम से कम 3 बार परिक्रमा करें। साथ ही पीपल के पेड़ की 108 बार परिक्रमा करने से भी शीघ्र ही शुभ फल की प्राप्ति होती है.
परिक्रमा के बाद अवश्य ही वृक्ष को स्पर्श करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *