घर में तुलसी का पौधा सूख जाए तो हो जाएं सावधान, यह हो सकता है अशुभ संकेत।

घर में तुलसी का पौधा सूख जाए तो हो जाएं सावधान, यह हो सकता है अशुभ संकेत।

हिंदू धर्म में तुलसी के पौधे को देवता माना गया है। कुछ लोग घर में सुख-शांति बनाए रखने और सकारात्मक ऊर्जा लाने के लिए आंगन में तुलसी के पौधे भी लगाते हैं।

हालांकि, बाकी पौधों की तुलना में इसका थोड़ा अलग ख्याल रखा जाता है। आइए आज हम आपको बताते हैं कि तुलसी का पौधा घर में ही उगाया जाता है तो किन बातों का ध्यान रखना चाहिए।

तुलसी को सिर्फ जमीन में न लगाएं: तुलसी के पौधे में ज्यादा पानी डालने से यह और भी खराब हो जाता है। ऐसे में तुलसी को 70% मिट्टी और 30% बालू में लगाएं। यह बरसात के मौसम में भी खराब नहीं होता है।

प्राकृतिक खाद का प्रयोग करें तुलसी के पौधे उगाने के लिए गाय के गोबर से बनी खाद का प्रयोग करें । ध्यान रहे कि तुलसी को हमेशा थोड़े गहरे रंग के और बड़े प्याले में ही डालें. इससे पौधा तेजी से बढ़ेगा और हर मौसम में हरा-भरा भी रहेगा।

ऐसे दें पानी: तुलसी में पानी वापस करने के लिए लौटा हुआ कांसे का प्रयोग करें। साथ ही महिलाओं को शाम के समय तुलसी के सामने दीपक जरूर जलाना चाहिए। इससे घर में सुख-शांति बनी रहेगी।

तुलसी को खराब होने से कैसे बचाएं?: 1 लीटर पानी में 1 चम्मच नमक मिलाकर पौधे की पत्तियों और मिट्टी पर छिड़कें। इससे पौधा हरा रहेगा और खराब नहीं होगा।

तुलसी के पत्ते तोड़कर करें ये काम: अगर तुलसी का पौधा सूख गया है तो इसे घर में न रखें. इसे किसी मंदिर या पवित्र नदी में विसर्जित करें क्योंकि सूखी तुलसी घर के लिए अशुभ होती है। यह भविष्य के संकट का संकेत हो सकता है।

तुलसी रखने की सही दिशा: तुलसी के पौधे को न केवल देवी लक्ष्मी का एक रूप माना जाता है, बल्कि यह विष्णु में भी बहुत प्रसिद्ध है। वास्तु के अनुसार इसे उत्तर, उत्तर-पूर्व, दक्षिण-पूर्व में रखना शुभ होता है। इसके अलावा पूर्व और उत्तर-पश्चिम दिशा में तुलसी लगाना न भूलें।

तुलसी के पत्ते लूटते समय न करें ये गलतियां: रविवार, अमावस्या, द्वादशी और चतुर्दशी के दिन तुलसी को तोड़ना कभी न भूलें. यदि पत्तियों को अधिक चाहिए, तो पौधे को तोड़ने से पहले उन्हें हिलाएं।

वास्तु शास्त्र में तुलसी को तोड़कर भी सूर्यास्त को अशुभ माना गया है। पौराणिक कथाओं के अनुसार राधा रानी के नाम से जानी जाने वाली तुलसी शाम के समय मां को हरी करती है। तुलसी को नाखून से खींचना या तोड़ना भी वर्जित माना गया है.

शास्त्रों के अनुसार तुलसी कोई पेड़ नहीं बल्कि राधा रानी का अवतार है। इस स्थिति में इसके पत्तों को चबाकर नहीं बल्कि जीभ पर रखकर चूसें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *