महाभारत में बताई गई इन बातों का ध्यान में रखेंगे तो जीवन में हर कार्य में सफलता ही सफलता मिलेगी

महाभारत में बताई गई इन बातों का ध्यान में रखेंगे तो जीवन में हर कार्य में सफलता ही सफलता मिलेगी

महाभारत में बताई गई बातों का पालन किया जाए तो हर इंसान अपने जीवन में सफलता प्राप्त कर सकता है। महाभारत के उद्योग पर्व में जीवन में सफलता के लिए एक श्लोक दिखाया गया है। इस श्लोक में लिखे शब्दों को जीवन में अपना लिया जाए तो व्यक्ति को सफल होने से कोई नहीं रोक सकता। वास्तव में इस श्लोक के माध्यम से विदुर ने धृतराष्ट्र को कुछ नीतियों के बारे में बताया जिससे मनुष्य किसी भी कार्य में सफल हो सकता है। इसलिए अगर आप अपने जीवन में कुछ नया शुरू करने जा रहे हैं तो विदुर द्वारा दिए गए निर्देशों का पालन करें।

नीति से जुड़ा श्लोक
निश्चित्य यः प्रक्रमते नान्तर्वसति कर्मणः। अबन्ध्यकालों वश्यात्मा स वै पण्डित उच्यते।

इस श्लोक के अनुसार किसी भी कार्य को शुरू करने से पहले व्यक्ति को नीचे बताए गए नियमों का पालन करना चाहिए।

पहला नियम- जल्दबाजी में काम शुरू न करें

इस श्लोक के अनुसार किसी भी काम को शुरू करने से पहले खुद को अच्छी तरह से तैयार कर लेना चाहिए। क्योंकि बिना सोचे-समझे और जल्दबाजी में शुरू किया गया कार्य कभी भी सफल नहीं हो सकता। इस श्लोक के अनुसार विदुर ने यह कहने का प्रयास किया है कि जब आप किसी कार्य के लिए तैयार होते हैं, तो आप इस कार्य को प्रारंभ करते हैं। किसी भी प्रयास में सफलता जो सच्चे मन से शुरू होती है और पूरी तैयारी की आवश्यकता होती है।

दूसरा नियम – काम को अधूरा न छोड़ें

जब हम कोई नया काम शुरू करते हैं तो हम हमेशा असफल होते हैं। बहुत से लोग असफलता के डर से अपना काम बीच में ही छोड़ देते हैं, जो अनुचित है। जब भी कोई काम शुरू करें तो उसे कभी भी अधूरा न छोड़ें। क्योंकि किसी भी काम को करने में अक्सर रुकावटें आती हैं और जो लोग इस बाधा का सामना करते हैं उन्हें अपने काम में सफलता मिल सकती है।

तीसरा नियम – समय बर्बाद न करें

जीवन में और कोई कीमती चीज नहीं है। इसलिए आपको अपना समय बर्बाद नहीं करना चाहिए और अपने जीवन के हर पल में कड़ी मेहनत करनी चाहिए। जो व्यक्ति अपने समय को अच्छी तरह से महत्व देता है वह हर कार्य में सफल होता है। इसलिए अगर आप कोई नया काम शुरू करने की सोच रहे हैं तो इस काम को शुरू करने और सही समय पर इसे शुरू करने में ज्यादा समय न लें।

चौथा नियम – एक रखने के करीब मन और इच्छाओं पर नज़र

ऊपर दिखाए गए श्लोक के अनुसार जो व्यक्ति अपने मन और इच्छाओं पर नियंत्रण करना सीख जाता है, उसे हर कार्य में सफलता की आवश्यकता होती है। इसलिए आपको कभी भी अपने मन को अपने लक्ष्य से भटकने नहीं देना चाहिए और हमेशा अपनी इच्छा पर नियंत्रण रखना चाहिए। दिमाग के साथ-साथ दिमाग से भी काम करने से व्यक्ति अपने लक्ष्य में अवश्य ही सफल होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *