आंध्र प्रदेश के लेपाक्षी मंदिर में करीब 450 साल पुराना नागलिंग है और मंदिर का इतिहास रामायण काल ​​से जुड़ा है, जानिए इतिहास क्या कहता है?

आंध्र प्रदेश के लेपाक्षी मंदिर में करीब 450 साल पुराना नागलिंग है और मंदिर का इतिहास रामायण काल ​​से जुड़ा है, जानिए इतिहास क्या कहता है?

आंध्र प्रदेश के अनंतपुर में एक लेपाक्षी मंदिर है। यह मंदिर दक्षिण भारत में आस्था का प्रमुख केंद्र है। जहां रोजाना हजारों की संख्या में श्रद्धालु दर्शन के लिए आते हैं। इस रहस्यमय मंदिर को कुर्म शैला भी कहा जाता है क्योंकि इसे विजयनगर साम्राज्य के दौरान एक पहाड़ी पर बनाया गया था। पौराणिक कथाओं के अनुसार इस मंदिर का निर्माण ऋषि अगस्त्य ने करवाया था।

नागपंचम के दिन होती है विशेष पूजा: मंदिर में नंदीजी की पत्थर की बड़ी मूर्ति है। जो 27 फीट लंबा और करीब साढ़े 4 फीट ऊंचा है। मंदिर में एक विशाल नागलिंग भी है जो लगभग 450 वर्ष पुराना है। इसके ऊपर शेषनाग की सात फुट की विशाल मूर्ति है। यह दुर्लभ संयोग है कि शेषनाग और नंदी की एक साथ स्थापना हुई है।

श्रावण मास में यहां नागपंचम पर विशेष पूजा का आयोजन किया जाता है। यहां रामलिंगेश्वर नाम का एक अद्भुत शिवलिंग है। कहा जाता है कि इस शिवलिंग की स्थापना भगवान शिव ने की थी। यहां एक और शिवलिंग स्थापित है जिसे हनुमानजी ने स्थापित किया था।

भगवान रामने स्थापित किया था:इस धाम में एक स्वत स्फूर्त शिवलिंग भी है जिसे शिवाजी का रौद्र अवतार यानि वीरभद्र अवतार माना जाता है। 15वीं शताब्दी तक यह शिवलिंग खुले आसमान के नीचे विराजमान था लेकिन विजयनगर साम्राज्य ने इस मंदिर का निर्माण शुरू कर दिया था।

एक अद्भुत शिवलिंग रामलिंगेश्वर के बारे में मान्यता है जिसकी स्थापना स्वयं भगवान राम ने जटायु के अंतिम संस्कार के बाद की थी। उनके पास एक और हनुमलिंगेश्वर शिवलिंग भी है। श्रीराम के बाद महाबली हनुमानजी ने भी यहां भगवान शिव की स्थापना की थी।

हवा में लटकते हैं खंभे:मंदिर का निर्माण 16वीं शताब्दी में हुआ था और यह एक पत्थर की संरचना है। इस मंदिर में एक पत्थर का खंभा है। स्तंभ 27 फीट लंबा और 15 फीट ऊंचा है। यह एक अद्भुत स्तंभ है। यह स्तंभ जमीन को नहीं छूता है। इसे हैंगिंग कॉलम भी कहा जाता है।

इस मंदिर तक कैसे पहुंचे
रेलवे : लेपाक्षी से निकटतम रेलवे स्टेशन अनंतपुर है। वहां से सड़क मार्ग से लेपाक्षी पहुंचा जा सकता है।
हवाई मार्ग : लेपाक्षी गांव से करीब 100 किमी हवाई अड्डा बैंगलोर में स्थित है।
सड़क मार्ग : आंध्र प्रदेश के इस शहर तक निजी वाहन से भी पहुंचा जा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *