इस विदेशी महिला का हिंदू रीति-रिवाज से एक भारतीय बाबा से विवाह किया, आने वाले भक्तों के लिए आकर्षण का केंद्र बन गया।

इस विदेशी महिला का हिंदू रीति-रिवाज से एक भारतीय बाबा से विवाह किया, आने वाले भक्तों के लिए आकर्षण का केंद्र बन गया।

हमने सोशल मीडिया पर कई प्रेम कहानियां देखी होंगी, जिन्हें भारत में एक विदेशी लड़की से प्यार हो गया और लड़की ने सात समंदर पार कर एक भारतीय व्यक्ति से शादी कर ली और फिर अपना पूरा जीवन अपने परिवार के साथ भारत में बिताया, लेकिन आज हम आपको बताते हैं मैं आपको एक दिलचस्प कहानी बताता हूं कि प्यार सोशल मीडिया पर नहीं हुआ बल्कि एक आश्रम में हुआ और विदेश की एक युवती ने बाबा से शादी कर ली।

तलाकशुदा एक ऑस्ट्रेलियाई महिला ने सात फेरे में श्रीनगर के प्रसिद्ध सिद्धपीठ धारी देवी मंदिर में हिंदू रीति-रिवाज से साधु योगीराज सिद्धनाथ महाराज बर्फानीदास बाबा से शादी की।इस शादी ने मंदिर आने वाले श्रद्धालुओं में भी आकर्षण पैदा कर दिया।

इस मंदिर के पुजारी लक्ष्मी प्रसाद पांडे ने बाबा और इस ऑस्ट्रेलियाई महिला की शादी हिंदू रीति-रिवाज से की थी।सिद्धपीठ धारी देवी मंदिर में विवाह करने आई 40 वर्षीय ऑस्ट्रेलियाई महिला जिलंट बूने ने मंदिर के पुजारी को बताया कि वह सितंबर में नवरात्रि के अवसर पर बद्रीनाथ आई थी।वहां उनकी मुलाकात बाबा सिद्धनाथ महाराज बर्फानीदास से हुई।

वह अपने पांच साल के बेटे के साथ यहां आई थी।6 नवंबर से वह धीहिरन चमोली में बाबा के बंधी महेश्वर आश्रम में रह रही हैं, जहां वह योग साधना और ब्रह्म विद्या साधना कर रही थीं।उनके बेटे ने बाबा को पिता कहा और वहीं से उन्होंने बाबा से शादी करने का फैसला किया।वह 9 दिसंबर को सिद्धपीठ धारी देवी मंदिर पहुंचे और यहां मंदिर के पुजारियों से बात कर शादी कर ली।

इस ऑस्ट्रेलियाई महिला ने जूलिया का नाम अपनी मां माता ऋषिवन के नाम पर रखा।एमबीए की पढ़ाई कर चुकी इस महिला ने हिंदू धर्म में अपनी अटूट आस्था और आस्था के चलते अपने दोनों बच्चों का नाम विद्वान और दिग्गज भी रखा है.उसकी शादी में विद्वान का पांच साल का बेटा मौजूद था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *