fbpx

इस मंदिर में भगवान शिव और माता पार्वती का विवाह हुआ था। जानिए कहा पर है यह मंदिर

B Editor

महादेव और माता पार्वती के विवाह से जुड़ी कथा बहुत ही रोचक है, जिसका उल्लेख शास्त्रों में भी मिलता है। शास्त्रों के अनुसार दोनों की शादी उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग जिले में हुई थी। भगवान शिव को पाने के लिए माता पार्वती ने बहुत तपस्या की और इस तपस्या के कारण शिव पार्वती से विवाह करने के लिए तैयार हो गए।

वास्तव में देवी पार्वती भगवान शिव और सभी देवी-देवताओं से विवाह करना चाहती थीं, लेकिन भोलेनाथ इस विवाह से खुश नहीं थे। जब माता पार्वती को इस बात का पता चला तो उन्होंने शिवाजी को अपना पति बनाने के लिए कठोर तपस्या करने का निश्चय किया। शिवाजी को पति बनाने के लिए माता पार्वती ने घोर तपस्या की। इस दौरान शिवाजी ने माता पार्वती की कई परीक्षाएं भी दीं, जिनमें पार्वतीजी आसानी से पास हो गईं।

ऐसा कहा जाता है कि जब माता पार्वती शिवाजी को पाने के लिए कठिन तपस्या कर रही थीं, तब शिवाजी एक सुंदर राजकुमार के रूप में उनसे मिलने आए। लेकिन माता पार्वती ने उन पर ध्यान नहीं दिया और अपनी तपस्या शुरू कर दी। माता पार्वती की इस तपस्या को देखकर शिवाजी उनसे विवाह करने के लिए तैयार हो गए। इसके बाद उन्होंने धूमधाम से शादी कर ली। इस विवाह में देवी-देवताओं ने भी भाग लिया।

जिस स्थान पर उनका विवाह हुआ था, वह आज रुद्रप्रयाग के एक गाँव त्रियुगी नारायण के नाम से जाना जाता है। यहां कई मंदिर हैं और इन मंदिरों को देखने के लिए दूर-दूर से लोग यहां आते हैं। त्रियुगी नारायण भगवान विष्णु और माता लक्ष्मी का मंदिर है, जो उनके विवाह का स्थान माना जाता है।

त्रियुगी नारायण में ब्रह्मकुंड और विष्णु कुंड भी हैं। शास्त्रों के अनुसार शिव और पार्वती के विवाह में ब्रह्माजी पुजारी बने और विवाह से पहले ब्रह्माजी ने ब्रह्मकुंड में स्नान किया। उसी तरह शिव और पार्वती के विवाह में भगवान विष्णु भाई के रूप में और सभी अनुष्ठानों में आए। विष्णु कुंड वह स्थान है जहां विष्णुजी ने विवाह से पहले स्नान किया था। जबकि विवाह में अन्य देवी-देवताओं ने रुद्रकुंड में स्नान किया और फिर विवाह में शामिल हुए।

त्रियुगी मंदिर वह स्थान है जहां भगवान शिव और माता पार्वती ने बैठकर विवाह किया था। इस स्थान पर भगवान ब्रह्माजी ने शिव और पार्वती का विवाह किया था। विवाह के समय भगवान शिव को एक गाय दी गई थी, जो मंदिर के खंभों पर बनी है। जिस जगह पर यह गाय बनाई जाती है वह आज भी मौजूद है। इसके अलावा पास में ही गौर कुंड भी है। कहा जाता है कि इस स्थान पर माता पार्वती ने घोर तपस्या की थी। इस टंकी का पानी आज भी बहुत गर्म है।

मंदिर परिसर में अभी भी आग जल रही है जहां भगवान शिव और माता पार्वती का विवाह हुआ था। इस अग्नि के चारों ओर माता पार्वती और भगवान शिव ने सात फेरे लिए। इस मंदिर में आने वाले लोग राख को अपने साथ ले जाते हैं। ऐसा माना जाता है कि इस राख को घर में रखने से वैवाहिक संबंधों में मधुरता बनी रहती है।

इसके अलावा जिन लोगों को शादी करने में परेशानी हो रही है, अगर वे इस राख को घर ले जाते हैं, तो उनका विवाह जल्द ही समाप्त हो जाएगा। इसके अलावा जिन लोगों को संतान नहीं होती है वे यहां आकर पूजा करते हैं तो उन्हें संतान की प्राप्ति होती है। हर साल सितंबर के महीने में यहां एक विशेष मेले का आयोजन किया जाता है।

इस मेले में शामिल होने के लिए बड़ी संख्या में लोग यहां आते हैं। शिवरात्रि के दौरान मेलों का भी आयोजन किया जाता है। शिवरात्रि के अवसर पर इस स्थान पर मेले का आयोजन किया जाता है। शास्त्रों के अनुसार महाशिवरात्रि के दिन ही भगवान शिवाजी और माता पार्वती का विवाह हुआ था।

Leave a comment