दुनिया के 100 सबसे अमीर लोगों में शामिल हुआ डी-मार्ट का मालिक, जानिए राधाकिशन दमानी की सफलता की कहानी।।

दुनिया के 100 सबसे अमीर लोगों में शामिल हुआ डी-मार्ट का मालिक, जानिए राधाकिशन दमानी की सफलता की कहानी।।

जब बात कम कीमत पर ग्रोसरी खरीदने की आती है तो डी-मार्ट हममें से ज्यादातर लोगों की पहली पसंद होता है। इसकी शुरुआत साल 2002 में मुंबई के पवई इलाके से हुई थी। आज कंपनी के देशभर में 238 स्टोर हैं। सफलता की कहानी एक सफल निवेशक ने बनाई थी, जो शेयर बाजार के बिग बुल राकेश झुनझुनवाला भी अपना गुरु मानता है। लाइमलाइट से काफी दूर रहने वाले इस बिजनेसमैन का नाम राधाकिशन दमानी है।

उन्हें आर.डी के नाम से भी जाना जाता है। कई लोग उनके सफेद कपड़ों की पसंद के कारण उन्हें मिस्टर व्हाइट एंड व्हाइट भी कहते हैं। दमानी जो 80 के दशक में 5000 रुपये से कम हो गई थी की आज कुल संपत्ति 1.42 लाख करोड़ रुपये है। ब्लूमबर्ग बिलियनेयर्स इंडेक्स के अनुसार वह वर्तमान में दुनिया के 98वें सबसे अमीर व्यक्ति हैं।

राधाकिशन दमानी की सफलता की कहानी कहाँ से शुरू हुई? वह एक सफल निवेशक से एक सफल व्यवसायी कैसे बने? बदलते भारत ने हाइपरमार्केट चेन सेक्टर में कैसे उछाल लाया? और कैसे एक साधारण दिखने वाले व्यक्ति ने अपनी कंपनी के निवेशकों को जबरदस्त फायदा पहुंचाया है, आइए जानें।

सामान्य जीवन
मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार सुर्खियों से दूर राधाकिशन दमानी शाकाहारी भोजन का पालन करते हैं। इसके अलावा वे प्रत्येक कुंभ मेलेमें गंगा स्नान करने भी जाते हैं। दोपहर के भोजन के बाद वे मुंबई में एक उद्योग चर्चगेट के पास एक छोटी सी दुकान पर खाना खाने जाते हैं। दमानी सफेद कपड़े पसंद करते हैं क्योंकि दिन की शुरुआत में उनके साथ कोई भ्रम नहीं होता है। दमानी ने 2000 से पहले स्टॉक मार्केट ट्रेडिंग छोड़ दी और रिटेल में कदम रखा।

रुपये से शुरू किया था
अगर उनके पिता एक स्टॉकब्रोकर थे तो उन्हें बचपन से ही बाजार की थोड़ी समझ थी। भाई गोपीकिशन दमानी के साथ मिलकर उन्होंने शेयर बाजार पर फोकस किया। 5000 रुपये से निवेश करना शुरू किया और आज दुनिया के सबसे अमीर लोगों की सूची में 98वें स्थान पर है।

हर्षद मेहता कांड के बाद
उन्होंने भारी मुनाफा कमाया। इस बीच उन्होंने 1992 में हर्षद मेहता कांड का समय भी देखा। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक दमानी ने उस वक्त कहा था कि अगर हर्षद मेहता अपनी लंबी पोजीशन सात दिन और रखते तो मुझे बाड़ लेकर सड़क पर उतरना पड़ता.

उन्होंने ऐसा इसलिए कहा क्योंकि हर्षद मेहता शेयर बाजार में रैली पर दांव लगा रहे थे जबकि दमानी बाजार दुर्घटना पर दांव लगा रहे थे। हालांकि घोटाला सामने आते ही बाजार चरमरा गया जिससे दमानी को भारी मुनाफा हुआ।

1995 एक निवेशक के रूप में दमानी के लिए एक अच्छा साल था। जब निवेशक सरकारी बैंकों में निवेश कर रहे थे दमानी ने सस्ते वैल्यूएशन वाली कंपनी में लॉन्ग टर्म स्टे का फॉर्मूला अपनाते हुए एच.डी.एफ.सी बैंक के आईपीओ में निवेश किया। इससे उन्हें काफी फायदा हुआ।

पहला डी-मार्ट स्टोर 2002 में शुरू हुआ।
1999 में उन्होंने नवी मुंबई के नेरुल में अपना बाजार में एक फ्रेंचाइजी शुरू की हालांकि उन्हें मॉडल पसंद नहीं आया। आगे बढ़ते हुए 2002 में उन्होंने मुंबई के पवई इलाके में पहला डी-मार्ट स्टोर खोला। कंपनी के अब देशभर में 238 स्टोर हैं।

डी-मार्ट मार्जिन के बजाय अधिक मात्रा पर जोर देता है
जब डी-मार्ट के सफलता के फार्मूले की बात आती है तो कंपनी मार्जिन के बजाय वॉल्यूम पर जोर देती है। सफलता की कुंजी यह है कि कंपनी अपने आपूर्तिकर्ता को 7-10 दिनों में भुगतान करती है। जबकि इसी सेगमेंट की अन्य कंपनियां आपूर्तिकर्ता को 20-30 दिनों में भुगतान करती हैं। खास बात यह है कि कंपनी जहां भी अपने स्टोर शुरू करती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *