चाणक्य नीति: इन बातों को गुप्त रखना चाहिए, इनके खुलासा करने से बढ़ जाती हैं परेशानियां

चाणक्य नीति: इन बातों को गुप्त रखना चाहिए, इनके खुलासा करने से बढ़ जाती हैं परेशानियां

आचार्य चाणक्य एक लोकप्रिय शिक्षक, दार्शनिक, अर्थशास्त्री, न्यायविद और सलाहकार के रूप में जाने जाते हैं। आचार्य चाणक्य पाटलिपुत्र के महान विद्वान थे। इतने बड़े साम्राज्य के मंत्री होने के बावजूद उन्होंने एक मामूली सी झोपड़ी में रहना पसंद किया। साथ ही वे बेहद सादा जीवन जीने में विश्वास रखते थे। चाणक्य ने चाणक्य नीति नामक पुस्तक में अपने जीवन के कुछ अनुभवों का वर्णन किया है।

चाणक्य नीति में कुछ बातों का उल्लेख है जिसे लागू करने में एक व्यक्ति को सफल होना चाहिए और इस पुस्तक में कुछ ऐसी चीजें हैं जिनका उल्लेख हमें गलती से भी किसी अन्य व्यक्ति के खिलाफ नहीं करना चाहिए। तो आइए जानते हैं आचार्य चाणक्य ने किन बातों का जिक्र किया है।

चाणक्य की इन नीतियों को याद रखें

चाणक्य नीति से पता चलता है कि जो व्यक्ति सुनने में धैर्य रखता है उसे धर्म का ज्ञान होता है। उसके मन का दोष दूर होता है और साथ ही ज्ञान की प्राप्ति होती है। इतना ही नहीं मोहमाया की मदद से उसका दिमाग जाग जाता है।

चाणक्य नीति कहती है कि व्यक्ति को जीवन भर कुछ न कुछ सीखते रहना चाहिए। सीखने की प्रक्रिया कभी खत्म नहीं होनी चाहिए। इंसान से लेकर जानवर तक इंसान कुछ सीख सकता है। जितना अधिक आप सीखेंगे, उतना अधिक अनुभव आप प्राप्त करेंगे।

कुछ लोगों को अपनी दौलत के बारे में बहुत ज्यादा बात करने की आदत होती है, लेकिन चाणक्य के अनुसार कभी भी किसी के सामने अपने धन का जिक्र नहीं करना चाहिए। माता-पिता के रूप में केवल आप ही निश्चित रूप से जान सकते हैं। यदि आप इसके बारे में किसी और को बताते हैं, तो आपका पैसा उनकी नजर में आ सकता है और जिस चीज पर आपको इतना गर्व है वह आपको गरीब बना सकती है।

चाणक्य नीति के तहत किए गए दान का खुलासा किसी और को नहीं करना चाहिए। अगर आप कुछ दान करते हैं, तो उसे अपने पास रखें। यदि आप किसी को दिए गए दान का उल्लेख करते हैं, तो इसे व्यर्थ माना जाता है। ऐसी बातों का उल्लेख करना व्यर्थ है, इसलिए दान को हमेशा गुप्त रखना चाहिए।

इसके अलावा चाणक्य नीति यह भी कहती है कि अगर आपका अपने परिवार से झगड़ा है तो उसे अपने तक ही सीमित रखना चाहिए। इसे किसी और को नहीं दिखाना चाहिए। पारिवारिक विवाद व्यक्तिगत होते हैं और इन्हें परस्पर सुलझाया जा सकता है। अगर आप इसके बारे में किसी को बताते हैं तो यह आपके दुश्मनों तक पहुंच सकता है, जो इसका फायदा बहुत आसानी से उठा सकते हैं।

चाणक्य नीति में यह भी कहा गया है कि ज्ञान प्राप्त करने में कभी भी शर्म नहीं करनी चाहिए। ज्ञान प्राप्त करने में सदा बेशर्म रहना चाहिए। इन मामलों में आपको अपने शत्रुओं से लज्जित नहीं होना चाहिए। जितना ज्ञान मिलेगा, उतना ही काम मिलेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *