शिव पूजा में धतूरे का महत्व, भोलेनाथ को जहर देने का अर्थ है अपने मन की कड़वाहट और जहर को त्याग देना।

शिव पूजा में धतूरे का महत्व, भोलेनाथ को जहर देने का अर्थ है अपने मन की कड़वाहट और जहर को त्याग देना।

भगवान शिव का श्रृंगार बहुत ही रहस्यमय और सबसे अलग है। इनमें सांप, राख, जहरीले और जंगली फूल और पत्ते शामिल हैं। ऐसे अलंकरण में कहा गया है कि भगवान शिव इसे सब ग्रहण करते हैं। जिसे लोग खुद से दूर रखते हैं। जो चीजें किसी काम की नहीं होती उन्हें भी भगवान शिव मानते हैं।

जिसे लोग त्याग देते हैं उसे शिव ने अपनाया
भगवान शिव धतूरे और बिलिपन को अलंकार के रूप में स्वीकार करते हैं। शिवजी का यह उदार रूप इस बात संकेत करता है कि समाज जो कुछ भी त्याग देता है शिव उसे स्वीकार करते हैं।

शिव पूजा में धतूरे जैसे जहरीले फल चढ़ाने के बाद भी व्यक्तिगत, पारिवारिक और सामाजिक जीवन में बुरे व्यवहार और कटु वचनों से बचने के लिए कीमत समान है। स्वार्थी हुए बिना दूसरों के हितों को महत्व दें। तभी हमारे साथ दूसरों का जीवन खुशहाल हो सकता है।

मन की कड़वाहट का त्याग एक संदेश यह भी है कि भगवान शिव को धतूरा बहुत प्रिय है। ऐसा करना भगवान शिव की प्रसन्नता के लिए सच्ची पूजा होगी।

धार्मिक महत्व : देवी भागवत पुराण के अनुसार देवी भागवत पुराण में धार्मिक कारण का उल्लेख है। इस शास्त्र के अनुसार समुद्र मंथन से निकले विष को जब शिवाजी ने पी लिया तो वे बेचैन हो उठे।

तब अश्विनी कुमारो ने भांग, धतूरो, बिलीपन जैसी जड़ी-बूटियों से शिवाजी का ध्यान भंग किया। भांग दातुरो शिवाजी को तभी से बहुत प्रिय हैं। जब भी कोई भक्त शिवाजी को भांग धतूरो चढ़ाता है तो शिवाजी उससे प्रसन्न होते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *