उज्जैन के महाकाल मंदिर में खोदकाम के दरमियान प्राचीन शिवलिंग-विष्णु की मूर्ति मिली, हम बी दर्शन कर लेते है।

उज्जैन के महाकाल मंदिर में खोदकाम के दरमियान प्राचीन शिवलिंग-विष्णु की मूर्ति मिली, हम बी दर्शन कर लेते है।

उज्जैन के महाकाल मंदिर परिसर में महाकालेश्वर मंदिर परिसर के विस्तार के लिए पिछले एक साल से खुदाई चल रही है। खुदाई के दौरान मंगलवार को एक शिवलिंग और बुधवार की सुबह भगवान विष्णु की मूर्ति मिली। पुरातत्व विभाग के विशेषज्ञों की मौजूदगी में शिवलिंग की खुदाई की जा रही है।

पुरातत्व विशेषज्ञों की टीम बुधवार सुबह उज्जैन पहुंची। पुरातत्व विभाग के अनुसार जलभृत शिवलिंग 9वीं से 10वीं शताब्दी का है। विष्णु की मूर्ति 10वीं शताब्दी की है। यह शिवलिंग पहले मंदिर परिसर में पाए जाने वाले परमारकलिन मंदिर से अलग है, क्योंकि परमारकलिन मंदिर 11वीं शताब्दी का है।

महाकाल मंदिर में खुदाई के दौरान 11वीं सदी के परमारकलिन मंदिर की संरचना मई में सामने आई थी। मंदिर की पूरी संरचना अब स्पष्ट रूप से दिखाई दे रही थी। मंदिर का निर्माण कालातीत वास्तुकला के साथ किया गया था, जो देखने में बेहद खूबसूरत लगता था।

मंगलवार को विस्तार के लिए सामने की ओर खुदाई के दौरान एक बड़ा शिवलिंग भूमिगत दिखाई दिया। उसके बाद धीरे-धीरे खुदाई की गई तो शिवलिंग का पूरा जलाशय सामने आ गया। शिवलिंग की लंबाई करीब पांच फीट है। मंदिर प्रशासन के अधिकारियों को जब शिवलिंग की जानकारी मिली तो उन्होंने खुदाई स्थल पर शिवलिंग को चादर से ढक दिया और पुरातत्व विभाग के खोज अधिकारी दुर्गेंद्र सिंह जोधा को इसकी सूचना दी.

मई में मिली मां की मूर्ति 30 मई को महाकाल मंदिर के सामने की खुदाई के दौरान मां की प्रतिमा और वास्तु कक्ष के कुछ अवशेष मिले थे. पुरातत्व विभाग भी अवशेषों की खोज कर रहा है। संस्कृति विभाग को जैसे ही मां की प्रतिमा और स्थापत्य कक्ष के अवशेषों की जानकारी मिली उन्होंने तत्काल पुरातत्व विभाग भोपाल से चार सदस्यीय टीम को महाकाल मंदिर भेजा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *