शाम को हनुमानजी के मंदिर में रखें ये खास चीज, खूब प्रसन्न होंगे हनुमानजी

शाम को हनुमानजी के मंदिर में रखें ये खास चीज, खूब प्रसन्न होंगे हनुमानजी

सामान्य तौर पर इस दुनिया में शायद ही कोई ऐसा व्यक्ति होगा जिसके जीवन में कोई समस्या न हो। बस इन समस्याओं के आने और जाने का समय बदलता रहता है। लेकिन कुछ विशेष परिस्थितियों में जातक पर ग्रहों की स्थिति खराब हो जाती है और उसके जीवन में परेशानियां बढ़ जाती हैं और वह उसमें डूब जाता है।

ऐसे में आपको उस समस्या की हार से दुखी नहीं होना चाहिए बल्कि उसका डटकर सामना करना चाहिए। इस कार्य को सफल बनाने के लिए आप हनुमानजी की सहायता भी ले सकते हैं।

हनुमानजी की कृपा आप पर बनाए रखने के लिए बस आपको कुछ खास करना है। ऐसा करने से न केवल आप पर हनुमानजी की कृपा होगी, बल्कि हनुमानजी आपके जीवन में आने वाली सभी बाधाओं को दूर कर देंगे।

जीवन की बाधा दूर करने के लिए करें ये खास उपाय

मंगलवार या शनिवार की सुबह सूर्योदय से पहले उठकर स्नान कर लें। अब पास के आम के पेड़ से पांच पत्ते तोड़ लें। लेकिन याद रखें कि आपको इसे सूर्योदय से पहले तोड़ना है।

अब इन पांच पत्तों को घर लाकर तिल के तेल में डुबोकर लाल कपड़े पर बिछा दें। यह लाल कपड़ा अपने घर के मंदिर के सामने रखना चाहिए। अब इन पांच पत्तों में चावल के तीन दाने, एक सुपारी, एक चुटकी आल और एक चुटकी कंकू मिलाएं। अब मंदिर के सामने आसन शय्या पर बैठ जाएं और हनुमानजी की प्रतिमा के सामने हनुमान चालीसा का पाठ करें।

अब इस पत्ते को सूर्यास्त तक मंदिर के पास रख दें। आपको इस बात का खास ख्याल रखना होगा कि सूरज की किरणें इस पत्ते पर न पड़ें। सूर्यास्त के बाद इस लाल कपड़े में रखे इस पत्ते का बंडल बनाकर पास के किसी हनुमान मंदिर में जाएं। मंदिर में पहुंचकर इस पैकेट को हनुमानजी की प्रतिमा के सामने रखें और तेल के पांच दीपक जलाएं।

अब मंदिर में कहीं बैठकर हनुमान चालीसा का पाठ करें। पाठ के अंत में हनुमानजी को अपना दर्द या समस्या बताएं और उनसे अनुरोध करें कि वह आपको इस समस्या से मुक्त करें। यह अनुष्ठान आपको प्रत्येक मंगलवार या शनिवार को सात बार करना चाहिए। अनुष्ठान पूरा होने के बाद आपके जीवन की सभी समस्याएं बहुत जल्द दूर हो जाएंगी।

यदि आपको हनुमानजी पर अटूट आस्था है और मन में यह विश्वास है कि आपकी समस्याएं दूर हो जाएंगी, तो आप इसके लिए ” जय बजरंगबली” अवश्य लिखें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *