कलियुग के अंत में इस स्थान पर जन्म लेंगे भगवान विष्णु के कल्कि अवतार, जानिए क्या होंगी उनकी विशेषताएं

कलियुग के अंत में इस स्थान पर जन्म लेंगे भगवान विष्णु के कल्कि अवतार, जानिए क्या होंगी उनकी विशेषताएं

हिंदू धर्मग्रंथों में सत्ययुग, त्रेतायुग, द्वापरयुग और कलियुग सहित चार युगों को दर्शाया गया है। इन चारों युगों का उल्लेख करते हुए लिखा है कि कलियुग में भगवान विष्णु अवतार में जन्म लेंगे और यह उनका अंतिम अवतार होगा, जो कलियुग के अंतिम चरण में आएगा। पुराणों में कलयुग और कल्कि अवतार के बारे में लिखा है कि कल्कि अवतार 5 प्रकार की कलाओं में पारंगत होंगे और सफेद घोड़े पर सवार होकर संसार के पापियों का नाश करेंगे।

यह जन्म स्थान लेगा
कल्कि अवतार का उल्लेख श्रीमद्भागवत महापुराण में मिलता है और एक श्लोक में कहा गया है कि इसका जन्म कहां और किसके द्वारा होना है।

संभलग्राममुख्यस्य ब्राह्मणनास्य महात्माः। भावने विष्णुयशः कल्किः प्रदुरभविष्यति।

इस श्लोक में कहा गया है कि शम्भल गांव में विष्णुयश नाम का एक ब्राह्मण होगा। इनका दिल बहुत बड़ा होगा और ये भक्ति से भरपूर होंगे। उनके घर कल्कि अवतार का जन्म होगा।

कल्कि पुराण में यह भी लिखा है कि उनका जन्म शम्भल नामक गाँव में विष्णुयश नाम के एक ब्राह्मण के यहाँ हुआ था। उनकी पत्नी का नाम सुमति होगा। इन दोनों के पुत्र कल्कि होंगे। कम उम्र में वैदिक शास्त्रों का पाठ करने से कल्कि महापंडित बनेंगे। फिर वह महादेव की पूजा करके तोपखाने का अधिग्रहण करेगा और धर्म को फिर से स्थापित करेगा। उनके विवाह का उल्लेख कल्कि पुराण में भी मिलता है और लिखा है कि उनका विवाह बृहद्रथ की पुत्री पद्मादेवी से होगा। आपको बता दें कि शम्भल मुरादाबाद जिले का एक गांव है।

कल्कि अवतार का वर्णन और चित्रण

भगवान विष्णु का कल्कि अवतार कैसा दिखेगा इसका उल्लेख अग्नि पुराण के 16वें अध्याय में किया गया है और इस पुराण में कहा गया है कि उसके पास एक तीर-धनुष होगा और वह घोड़े पर सवार होगा। कल्कि पुराण के अनुसार इनके हाथों में चमकीली तलवार होगी और ये सफेद घोड़ों पर सवार होंगे। बौद्धों, जैनियों और मलाच्छों को हराकर सनातन दूसरी बार राज्य की स्थापना करेगा।

यह इस बीच में जन्म लेगा

वायु पुराण के 12वें अध्याय में लिखा है कि जब कलियुग अपने चरम पर होगा तो कल्कि अवतार इस धरती पर पैदा होंगे। इसके अलावा, वैष्णव ब्रह्मांड विज्ञान में लिखा है कि कल्कि अवतार हिंदू भगवान विष्णु के 10 वें अवतार होंगे और वह पापियों का नाश करेंगे। इसे नष्ट करने के बाद वे सनातन धर्म की फिर से स्थापना करेंगे।

कलियुग की पहचान कैसे करें

कलियुग के बारे में शास्त्रों में लिखा है कि कलियुग में मानवता का पतन शुरू हो जाएगा। पृथ्वी पर अधर्म बढ़ने लगेगा। लोग पापी बन जायेंगे। हर तरफ बस अँधेरा होगा और बेगुनाहों पर इतना ज़ुल्म होगा। पृथ्वी पर बढ़ रहे इस अधर्म को रोकने के लिए भगवान विष्णु का जन्म होगा और अधर्म का अंत होगा। ऐसा माना जाता है कि वर्तमान समय में पृथ्वी पर कलियुग चल रहा है और जैसे ही यह अपने चरम पर पहुंचेगा, भगवान विष्णु इस अवतार में पृथ्वी पर जन्म लेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *