अंधविश्वास नहीं बल्कि विज्ञान हैं, जानिए 20 हिंदू परंपराएं और उनके पीछे का वैज्ञानिक कारण।।

अंधविश्वास नहीं बल्कि विज्ञान हैं, जानिए 20 हिंदू परंपराएं और उनके पीछे का वैज्ञानिक कारण।।

यह कहना गलत नहीं होगा कि भारत की संस्कृति और सभ्यता दुनिया में सबसे अमीर और सबसे अधिक सदस्य है। इसका एक उदाहरण भारतीय शास्त्रों और पुराणों में मिलता है। आज हम कितने भी आधुनिक क्यों न हों, कुछ परंपराएं और रीति-रिवाज आज भी कायम हैं। तो आइए आज हम 20 हिंदू रीति-रिवाजों के बारे में जानते हैं और आपको इसका वैज्ञानिक महत्व भी बताते हैं।

दोनों हाथ जोड़कर अभिवादन करना
जब भी हम भारतीय किसी व्यक्ति से मिलते हैं तो हाथ जोड़कर उसका अभिवादन करते हैं। किसी भी अजनबी और मेहमान से परिचय शुरू करने का यह पहला कदम है। इसका वैज्ञानिक महत्व भी है। जब दोनों हाथ आपस में जुड़ते हैं तो अंगुलियों के सिरों को आपस में जोड़ा जाता है। ये युक्तियाँ कान, आंख और मस्तिष्क के दबाव बिंदु हैं। जब दोनों हाथों का अभिवादन किया जाता है, तो दबाव बिंदु सक्रिय हो जाता है। ताकि आप किसी को भी लंबे समय तक याद रख सकें।

महिलाओं द्वारा पैरों में मछली पहनना
मछली में टखने की अंगूठी होती है। महिलाओं द्वारा मछली पहनने का वैज्ञानिक महत्व भी है क्योंकि इससे रक्त संचार नियमित रहता है। चांदी की मछली ध्रुवीय ऊर्जा को अवशोषित करके शरीर को स्वस्थ रखने में मदद करती है।

सिर पर तिलक लगाना
सिर पर तिलक लगाने का भी अपना महत्व है। यह शरीर को एकाग्र करने में मदद करता है। इसके अलावा तिलक शरीर की ऊर्जा को व्यर्थ होने से बचाता है.आज भी जब कहीं पूजा की जाती है तो सिर पर तिलक जरूर लगाया जाता है.

नदी में फेंके सिक्के
हम अक्सर लोगों को नदी में सिक्के फेंकते हुए देखते हैं। नदी में सिक्के फेंकना भाग्य के लिए अच्छा माना जाता है। इसके पीछे वैज्ञानिक महत्व भी है। क्योंकि जब हम किसी सिक्के को नदी में फेंकते हैं तो वह नदी के पानी में मिल जाता है क्योंकि यह तांबे का बना होता है। यदि नदी के पानी का उपयोग पीने के लिए किया जाता है, तो यह शरीर में तांबे के संतुलन को बनाए रखता है।

मंदिरों में बजना
दुनिया के लगभग हर मंदिर में घंटी की जरूरत होती है। इसे मंदिर के द्वार पर लगाया गया है। भक्त इसे मंदिर जाते समय और मंदिर से निकलते समय बजाते हैं। घंटी बजाने के पीछे का वैज्ञानिक महत्व यह है कि जब भी इसे बजाया जाता है तो इसकी प्रतिध्वनि 2 सेकंड तक रहती है। यह प्रतिध्वनि हमारे शरीर के 5 उपचार केंद्रों को सक्रिय करती है। जो हमारे मन में आने वाले सभी नकारात्मक विचारों को दूर करता है।

तीखे खाने के बाद कुछ मीठा खाने की परंपरा
ज्यादातर लोग खाना खाने के बाद कुछ मीठा खाना पसंद करते हैं। मसालेदार भोजन पाचक रस और एसिड को सक्रिय करने में मदद करते हैं। जो शरीर को भोजन को बेहतर तरीके से पचाने में मदद करता है। फिर मीठी चीज खाने से बनने वाले कार्बोहाइड्रेट पचे हुए भोजन को नीचे खींच लेते हैं।

हाथों और पैरों पर मेहंदी लगाएं
देखा जाता है कि युवतियां शादी से पहले हाथों और पैरों में मेहंदी लगाती हैं। कई जगहों पर तो पुरुष भी शादी के वक्त हाथों और पैरों में मेहंदी लगाते हैं। कहा जाता है कि मेहंदी लगाने से बेचैनी कम होती है। इसलिए दूल्हा-दुल्हन मेहंदी लगाते हैं।

जमीन पर बैठने और खाने का अभ्यास
भोजन प्राप्त करने का सबसे अच्छा तरीका जमीन पर बैठकर खाना है। इसके पीछे एक वैज्ञानिक कारण यह भी है कि जमीन पर बैठकर खाना खाने से शरीर शांत रहता है और भोजन को पचाने की क्षमता बढ़ती है। यह मस्तिष्क को संकेत देता है कि भोजन पचाने के लिए तैयार है।

उत्तर दिशा की ओर सिर करके नहीं सोना चाहिए
हिंदू धर्म में उत्तर दिशा में सिर करके सोना अशुभ माना जाता है। इसके पीछे वैज्ञानिक कारण भी है। ऐसा कहा जाता है कि जब हम उत्तर की ओर सिर करके सोते हैं तो पृथ्वी जैसे शरीर में चुंबकीय क्षेत्र की उपस्थिति के कारण यह विषम हो जाता है। इससे शरीर में ब्लड प्रेशर, सिरदर्द, संज्ञानात्मक समस्याएं जैसी समस्याएं होती हैं।

कान छेदना
भारत में कान छिदवाने की परंपरा बहुत पुरानी है। इसके पीछे वैज्ञानिक कारण यह है कि कान छिदवाने से भाषा में संयम आता है। ऐसा करने से मन में बुरे विचार और विकार नहीं आते।

सूर्य को नमस्कार करने के लिए
जब योग की बात आती है, तो सबसे पहले सूर्य नमस्कार का ख्याल आता है। यह योग के रूप में बहुत लंबे समय से किया जाता रहा है। सूर्य नमस्कार हमारी आंखों को स्वस्थ रखता है। सूर्य नमस्कार हमारे शरीर को भी ऊर्जावान रखता है।

पुरुषों के सिर पर चोटी बांधना
शेव करने के बाद सिर के पिछले हिस्से पर चोटी रखने का रिवाज है। एक महान चिकित्सक और आयुर्वेद के ज्ञाता सुश्रुति ऋषि ने इसके बारे में कहा कि यह सिर की सभी नसों में एक जोड़ बनाता है। इस गठबंधन को अधिपति मर्म कहा जाता है। यह निर्मित शिखर, इस स्थान की रक्षा करता है।

तेज़ी से करने के लिए
भारत में महिलाओं और पुरुषों द्वारा त्योहारों और अन्य अवसरों पर उपवास रखने की परंपरा बहुत पुरानी है। इसके पीछे वैज्ञानिक कारण बताया गया है कि चूंकि मानव शरीर 90% पानी है, उपवास शरीर को विवेक बनाए रखने की क्षमता देता है। उपवास का एक कारण पाचन तंत्र को कुछ समय के लिए शिथिल करना भी होता है।

पैर छूने के लिए जुकी
भारतीय परंपरा के अनुसार, ज़ुकी के पैर छूना बड़ों को श्रद्धांजलि देने और आशीर्वाद प्राप्त करने का सबसे अच्छा तरीका माना जाता है। इसके पीछे वैज्ञानिक कारण यह है कि शरीर में सिर से पैर तक नसें होती हैं। जब किसी व्यक्ति के पैर छुए जाते हैं, तो शरीर की ऊर्जा ऊर्जा एक दूसरे से जुड़ जाती है, जिससे शरीर को ऊर्जा मिलती है।

विवाहित महिलाओं को सिंदूर लगाना
भारत में हिंदू महिलाएं शादी के बाद सिर के बीच में सिंदूर लगाती हैं। यह विवाह का संकेत है। क्योंकि सिंदूर हल्दी, चूना और पारे के मिश्रण से बनता है। इसलिए इसे लगाने से ब्लड प्रेशर कंट्रोल में रहता है। चूंकि सिंदूर में पारा मिलाया जाता है, इसलिए यह शरीर को दबाव और तनाव से मुक्त रखने में भी मदद करता है।

पीपल के पेड़ की पूजा करें
जैसा कि हम सभी जानते हैं कि पीपल के पेड़ पर न तो फल लगते हैं और न ही फूल, फिर भी हिंदू धर्म में इसे पवित्र माना जाता है। लोग पीपल के पेड़ की पूजा भी करते हैं। वैज्ञानिकों का कहना है कि कैक्टस एकमात्र ऐसा पेड़ है जो दिन में 8 घंटे वातावरण में ऑक्सीजन छोड़ता है। इसलिए एक किंवदंती है कि हिंदू धर्म में इस पेड़ को इसके महत्व के कारण पवित्र माना जाता है। इसलिए लोग उनकी पूजा करते हैं।

तुलसी के पौधे की पूजा
पिपला के अलावा भारत में तुलसी के पौधे की पूजा करने की परंपरा बहुत पुरानी है। महिलाएं उन्हें मां के रूप में पूजती हैं। तुलसी भी एक प्रकार की जड़ी-बूटी है। यह कई बीमारियों को भी दूर करता है। कहा जाता है कि तुलसी का पौधा जहां रहता है वहां की हवा शुद्ध होती है। तुलसी के पौधे को घर में रखने से मच्छर और कीड़े घर में प्रवेश नहीं करते हैं।

मूर्तिपूजा
हिंदू धर्म में मूर्तिपूजा को सबसे ज्यादा महत्व दिया जाता है। वैज्ञानिकों का मानना ​​है कि मूर्ति पूजा से प्रार्थना में एकाग्रता आती है। व्यक्ति मूर्ति को वास्तविक मानकर ईश्वर की कल्पना करता है। यह उसके दिमाग को एक अलग ब्रह्मांड के बारे में सोचने पर मजबूर करता है। यह किसी व्यक्ति की अनदेखी में सोचने और विश्वास करने की क्षमता को बढ़ाता है।

महिलाओं के कंगन पहने हुए
कंगन आमतौर पर भारतीय महिलाओं के हाथों में पाए जाते हैं। इसके पीछे शोधकर्ताओं का मानना ​​है कि कलाई शरीर का वह हिस्सा है जिससे व्यक्ति की नब्ज चेक की जाती है। इसके अलावा शरीर के बाहरी हिस्से की त्वचा से गुजरने वाली बिजली ब्रेसलेट के कारण अपना रास्ता नहीं खोज पाती है जिससे वह वापस शरीर में चली जाती है। जिससे शरीर को फायदा होता है।

मंदिर जा रहे हैं
मंदिर का वातावरण एक मनोवैज्ञानिक प्रभाव पैदा करता है, जो वांछित उद्देश्य पर ध्यान केंद्रित करने में मदद करता है। मंदिर एक ऐसी जगह है जहां लोग मानते हैं कि भगवान मौजूद हैं। यही कारण है कि भगवान अपने भक्तों के लिए मंदिर में प्रकट होते हैं। मंदिर में जाने से घंटियों और मंत्रों की आवाज से शरीर में तरंगें पैदा होती हैं, जो कीमतों को समझने में हमारे तंत्रिका तंत्र को मजबूत करती हैं। मंदिर जाने से दिन भर हमारे आसपास सकारात्मकता बनी रहती है। ताकि हम अपना काम ठीक से कर सकें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *